सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

बिगड़े हालातों में काश्मीर का दौरा

अभी परसों ही काश्मीर घाटी से लौटा हूँ । कार्यालय के काम से श्रीनगर जाना हुआ । कुल 10 दिन श्रीनगर में रहा । इन 10 दिनों में जहाँ काश्मीर के नैसर्गिक सौंदर्य को देखने का अवसर मिला वहीं दूसरी ओर काश्मीर की वर्तमान स्थिति को देखने व समझने का एक अनुभव भी रहा । श्रीनगर शहर को अब तक आरजू, काश्मीर की कली जैसी फिल्मों और गुल गुलशन गुलफाम जैसे टी.वी. धारावाहिकों या काश्मीर पर बनी डाक्यूमेंटरी फिल्मों में ही देखा था । धरती का स्वर्ग कहा जाने वाला काश्मीर वस्तुत: स्वर्ग ही है । चारों ओर फैला नैसर्गिक सौंदर्य आँखों को अद्-भूत सुकून और आनंद देता है । श्रीनगर एअर-पोर्ट से निकलते ही जिन सुंदर वादियों, मकानों और सड़कों के दर्शन होते हैं, वे खूबसूरत अहसास देते हैं । यद्यपि मैं श्रीनगर सड़क मार्ग से जाने वाला था, लेकिन घाटी के हालात बिगड़ जाने से जम्मू-श्रीनगर रास्ता बंद कर दिया गया था । इसलिए मुझे जम्मू से श्रीनगर का सफर एअर से करना पड़ा । फिर श्रीनगर पहुँचते ही कार्यालय के कामों व मिटिंग की व्यस्तताओं में डूबा रहा । इस दौरान डल झील और लाल चौक के आस-पास के इलाके में आना जाना लगा रहा । कभी मिटिंग में शामिल होने वाले मेहमानों के लिए उपहार खरीदने तो कभी हमारे अधिकारियों को श्रीनगर घुमाने के लिए डल पर चार बार जाना हुआ । डल झील बहुत बड़ी है । सैंकड़ों एकड़ में फैली इस झील पर शिकारों में विहार करना एक अलग तरह का आनंद देता है । इस झील में होटलनुमा बोटहाउस हैं । जहाँ रहकर आप प्रकृति के विशुद्ध मनोरम दृश्यों का आनंद ले सकते हैं । विशेषकर चाँदनी रातों में...जब पूर्णिमा का पूरा चाँद झील में विभिन्न दृश्य प्रस्तुत करता है । झील का पानी आजकल गंदा हो गया है । वर्षों से झील की सफाई नहीं हुई है या हुई भी है तो ऊपर-ऊपर से । यहाँ के शिकारा चलाने वालों से बात किया तो पता चला कि झील की सफाई के लिए करोड़ों रुपए सरकार देती है...लेकिन पूरा पैसा कभी झील पर खर्च नहीं होता...भ्रष्ट अधिकारियों और बिचौलियों के द्वारा अधिकाँश पैसा हड़प लिया जाता है । झील पर अतिक्रमण बहुत बढ़ गया है और झील का आकार पहले की अपेक्षा काफी कम रह गया है ।

जिस होटल में, ललित ग्राँड पैलेस में मिटिंग थी, वह श्रीनगर का पाँच सितारा खूबसूरत होटल है । यहाँ के बगीचे के दक्षिण छोर से श्रीनगर की वादियों का जो नजारा देखने को मिला , वह अद्-भूत और आत्मा को एक अलौकिक अहसास करा रहा था ।

इस दौरान घाटी के हालात बिगड़ते रहे । रोज ही सीआरपीएफ और स्थानीय लोगों के बीच मुठभेड़ जारी थी ।  सीआरपीएफ पत्थर बरसाती और प्रदर्शन करती भीड़ को तीतर-बितर करने के लिए बहुत बार गोली चलाने को विवश हुई और लोगों की जाने जाती रही । कभी 3 , कभी 4 लोग सीआरपीएफ की गोली की शिकार होते रहे । एक दिन एक 9 साल का बच्चा मारा गया । एक दिन एक 24 वर्षीय महीला मारी गई । घाटी का माहौल बहुत बिगड़ गया । लोगों को घरों में ही रखने के लिए सख्त कर्फ्यू लगा दिया गया । देखते ही गोली मारने के आदेश आ गए ।  पुलिस की चौकसी बढ़ चुकी थी । शहर के अंदरुनी हिस्से अधिक संवेदनशील बन चुके हैं ।

इन हालातों की गहराई में जाने के विचार चलते रहे । काश्मीर के बहुत से लोग आजादी चाहते हैं ? बच्चों के कोमल मनों में आजादी के शब्द घोले जा रहें हैं । लेकिन किस से आजादी ???  स्वर्ग सदृश काश्मीर घाटी को को नरक में तबदील कर देने वाले कौन लोग हैं ? शायद ये सवाल इतने आसान नहीं हैं । हमेशा की तरह राजनीति तो इसका एक बड़ा कारण है ही, साथ ही शायद आज भी काश्मीर के लोग स्वयं को भारत से जुदा समझते हैं । युवा बेरोजगार हैं । कुछ कानून ऐसे हैं जो केवल काश्मीर पर ही लागू होते हैं और पूरे भारत पर नहीं । काश्मीर की सरकार को करोड़ों रुपए केन्द्र सरकार से विकास और खुशहाली के लिए दिए जाते हैं । लेकिन इसके बावजूद लोगों को अलगाववादी ताकतें भड़काने में कामयाब रहती हैं । कुछ लोग कहते हैं इसमें बाह्य ताकतों का हाथ है ।

श्रीनगर में कर्फ्यू के बावजूद सुबह -शाम बाहर से आने वाले यात्रियों के लिए यात्रा के साधन मिल ही जाते हैं । हवाई सेवाएँ भी निर्बाध रूप से जारी हैं । इधर हरियाणा पंजाब व चंडीगढ़ में भारी बारीश के कारण बाढ़ के हालातों की खबरें टीवी से मिलती हैं । तो दूसरी ओर मैं होटल में बैठा हालात सामान्य होने का इंतजार कर रहा हूँ । मुझे मिटिंग खत्म करके 7 जुलाई को ही चंडीगढ़ के लिए निकलना था, लेकिन नहीं निकल सका । 8 जुलाई को किसी तरह एक वैन में जगह मिल पाई और मैं अमरनाथ यात्रियों के साथ जम्मू पहुँचा । श्रीनगर से जम्मू की यात्रा में भी बहुत से सुंदर प्राकृतिक दृश्य देखने को मिले । अमरनाथ यात्रियों के लिए जगह-जगह लंगर चल रहा था । जिसकी वजह से रास्ते में बहुत सा ट्रैफिक जाम भी रहा ।

टिप्पणियाँ

  1. खूबसूरत लम्हों में क़ैद लम्हों की आपकी कश्मीर यात्रा का व्रतांत रोमांचित करता है ....

    जवाब देंहटाएं
  2. खूबसूरत शब्द चित्र मनोज भाई!
    हमने भी महसूस किया थोड़ा सा कश्मीर अपने भीतर!
    यह सवाल अभी भी मौज़ूद है !

    किससे स्वतंत्रता? कैसी स्वतंत्रता ?
    स्वर्ग को नर्क में बदलने की स्वतंत्रता ?

    जवाब देंहटाएं
  3. धरती के स्वर्ग का ई हालत के लिए कौन जिम्मेवार है...लेकिन अब ईस सवाल का जवाब बेमानी हो गया है… डल झील का सुंदरता के बारे में केतना सुने थे लेकिन दुर्दसा सुनकर अफसोस हुआ... कभी कहा करते थे कि एतना रोमांटिक जगह का नाम डल (dull) कौन रख दिया...

    जवाब देंहटाएं
  4. पूरा चित्र कहीं व्यथित करता है. कश्मीर के मामले में आज़ादी का नारा एक छोटे से समूह की आर्थिक मुफ़्तख़ोरी का नतीजा है.

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राष्ट्रभाषा, राजभाषा या संपर्कभाषा हिंदी

आज हिंदी को बहुत से लोग राष्ट्रभाषा के रूप में देखते हैं । कुछ इसे राजभाषा के रूप में प्रतिष्ठित देखना चाहते हैं । जबकि कुछ का मानना है कि हिंदी संपर्क भाषा के रूप में विकसित हो रही है । आइए हम हिंदी के इन विभिन्न रूपों को विधिवत समझ लें, ताकि हमारे मन-मस्तिष्क में स्पष्टता आ जाए । राष्ट्रभाषा से अभिप्राय: है किसी राष्ट्र की सर्वमान्य भाषा । क्या हिंदी भारत की राष्ट्रभाषा है ? यद्यपि हिंदी का व्यवहार संपूर्ण भारतवर्ष में होता है,लेकिन हिंदी भाषा को भारतीय संविधान में राष्ट्रभाषा नहीं कहा गया है । चूँकि भारतवर्ष सांस्कृतिक, भौगोलिक और भाषाई दृष्टि से विविधताओं का देश है । इस राष्ट्र में किसी एक भाषा का बहुमत से सर्वमान्य होना निश्चित नहीं है । इसलिए भारतीय संविधान में देश की चुनिंदा भाषाओं को संविधान की आठवीं अनुसूची में रखा है । शुरु में इनकी संख्या 16 थी , जो आज बढ़ कर 22 हो गई हैं । ये सब भाषाएँ भारत की अधिकृत भाषाएँ हैं, जिनमें भारत देश की सरकारों का काम होता है । भारतीय मुद्रा नोट पर 16 भाषाओं में नोट का मूल्य अंकित रहता है और भारत सरकार इन सभी भाषाओं के विकास के लिए संविधान अनुसा

अमीर खुसरो की चतुराई

एक बार गर्मियों के दिनों में अमीर खुसरो किसी गाँव की यात्रा पर निकले थे । रास्ते में उन्हें बहुत जोर की प्यास लगी । वे पानी की खोज में एक पनघट पर जा पहुँचे । वहां चार पनिहारिनें पानी भर रही थी । खुसरों ने उनसे पानी पिलाने का अनुरोध किया । उनमें से एक पनिहारिन खुसरो को पहचानती थी । उसने अपनी तीनों सहेलियों को बता दिया कि पहेलियाँ बनाने वाले यही अमीर खुसरों हैं । विदित है कि अमीर खुसरो अपनी पहेलियों,मुकरियों तथा दो-सखुनों के लिए जगत प्रसिद्ध हैं । फिर क्या था ? चारों पनिहारिनों में से एक ने कहा मुझे खीर पर कविता सुनाओ, तब पानी पिलाऊंगी । इसी तरह से दूसरी पनिहारिन ने चरखा, तीसरी ने ढोल और चौथी ने कुत्ते पर कविता सुनाने के लिए कहा । खुसरो बेचारे प्यास से व्याकुल थे । पर खुसरो की चतुराई देखिए कि उन्होंने एक ही छंद में उन सबकी इच्छानुसार कविता गढ़ कर सुना दी -               खीर पकाई जतन से, चरखा दिया जला । आया कुत्ता खा गया, तू बैठी ढोल बजा ।।                                                  ला पानी पीला ।  यह सुन कर पनिहारिनों की खुशी का ठीकाना न रहा । उन्होंने खुश होकर खुसरो को न केवल पानी

शेख और आलम

कवि आलम रीतिकाल के प्रसिद्ध कवि हुए । इनका जन्म सनाढ्य ब्राह्मण जाति में हुआ । उस समय देश में औरंगजेब का राज था । इनकी कवि प्रतिभा और चतुराई से औरंगजेब का लड़का बहुत प्रभावित था । उसके आग्रह पर ही आलम उनका राज कवि बना । एक बार उन्हें एक समस्या पहेली के रूप में दी गई और इसे पूरा करने के लिए कहा गया । दोहे की वह पंक्ति कुछ यूँ थी :- "कनक छरी सी कामिनी, काहे को कटि छीन " बहुत सोच-विचार करने पर भी वे इसके समाधान में दूसरी पंक्ति न सोच सके । जिस कागज पर यह पंक्ति लिखी गई थी, वह कागज उन्होंने अपनी पगड़ी में रख लिया । वह कागज उनकी पगड़ी के साथ धुलने के लिए रंगरेजिन के पास चला गया । कहते हैं कि वह रंगरेजिन बहुत सुंदर और चतुर थी । उसका नाम शेख था । जब उसने पगड़ी को धोने के लिए खोला, तो उसके हाथ वह कागज लगा, जिस पर पहेली-रूपी में वह पंक्ति लिखी थी । उसने समस्या को ध्यान से पढ़ा और उसके नीचे लिख दिया :- "कटि को कंचन काटि विधि कुचन मध्य धर दीनी ।" जब पगड़ी धुल गई तो उस कागज को ज्यों का त्यों उसमें रख दिया । जब आलम ने पगड़ी लेकर अपना कागज देखा तो उसमें समस्या का उत्तर लिखा हुआ द