सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

ब्लॉग दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएं

बहुत अच्छा लग रहा है कि आज हिंदी ब्लॉग जगत में फिर से हलचल तेज़ हुई है। जिन लोगों ने भी इसके लिए प्रयास किए हैं,वे सभी प्रशंसा के पात्र हैं। ब्लॉग विचार अभिव्यक्ति का सर्वोत्तम मंच है। इसे ताज़ा बनाए रखने के लिए जरूरी है कि सभी ब्लॉगर बंधु अपने-अपने ब्लॉग पर नियमित रूप से लिखें। हर विषय पर ब्लॉग लिखा जाए और उन्हें अद्यतन रखा जाए। ब्लॉग पर लिखे, अभिव्यक्त विचारों पर स्वस्थ विचार-विमर्श के लिए जरूरी है कि सभी ब्लॉगर न केवल ब्लॉग लिखें बल्कि दूसरों के ब्लॉग पढें भी और उन पर पहले की तरह ही अपनी टिप्पणी दें। ताकि ब्लॉग लिखने वालों को लिखने का प्रोत्साहन मिलता रहे।

अधिक न लिखते हुए मैं सभी पुराने,नए ब्लॉगर्स को राष्ट्रीय ब्लॉग दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएं प्रेषित करते हुए उन्हें बधाई देना चाहता हूं कि उन्होंने एक बार फिर ब्लॉग जगत पर विश्वास दिखाया है और मैं समझता हूं कि यह विचार-अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम बन कर इस वर्ष अपनी पुरानी साख को पुन:प्रतिष्ठापित  करने  में  सफल  होगा।

इन्ही शुभकामनाओं सहित


आपका



मनोज भारती

टिप्पणियाँ

  1. वैसे कल कोई ब्लॉगर दिवस न था | ये तो ब्लॉग पर हर महीने में एक दिन आने का आवाहन भर था | आप ने सभी कहा लिखने के साथ पढ़ना भी जरुरी है |

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हमारे लिए तो यह अवसर ब्लॉग दिवस जैसा ही उत्सव रहा।

      हटाएं
  2. मनोज जी! आपकी गतिविधियाँ तेज़ हो और सक्रियता बढे यही कामना है!

    जवाब देंहटाएं
  3. Nice information about how astrology is important in our life to know.

    if anyone is looking for more astrological services

    Pandit Vivek Ji is the Best Indian Astrologer in Melbourne, Australia. He has become a world-renowned figure by offering the best solution and services to heal every sort of human issue. Everyone facing problems in Personal and Professional life, but they might be thinking that it is very difficult to get out a solution for those problems. Our Indian Astrologer Vivek Ji has years of experience in astrology services in Melbourne. He will give 100% Results for your life problems and you will get rid of all your life problems.


    Famous Astrologer in Melbourne

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राष्ट्रभाषा, राजभाषा या संपर्कभाषा हिंदी

आज हिंदी को बहुत से लोग राष्ट्रभाषा के रूप में देखते हैं । कुछ इसे राजभाषा के रूप में प्रतिष्ठित देखना चाहते हैं । जबकि कुछ का मानना है कि हिंदी संपर्क भाषा के रूप में विकसित हो रही है । आइए हम हिंदी के इन विभिन्न रूपों को विधिवत समझ लें, ताकि हमारे मन-मस्तिष्क में स्पष्टता आ जाए । राष्ट्रभाषा से अभिप्राय: है किसी राष्ट्र की सर्वमान्य भाषा । क्या हिंदी भारत की राष्ट्रभाषा है ? यद्यपि हिंदी का व्यवहार संपूर्ण भारतवर्ष में होता है,लेकिन हिंदी भाषा को भारतीय संविधान में राष्ट्रभाषा नहीं कहा गया है । चूँकि भारतवर्ष सांस्कृतिक, भौगोलिक और भाषाई दृष्टि से विविधताओं का देश है । इस राष्ट्र में किसी एक भाषा का बहुमत से सर्वमान्य होना निश्चित नहीं है । इसलिए भारतीय संविधान में देश की चुनिंदा भाषाओं को संविधान की आठवीं अनुसूची में रखा है । शुरु में इनकी संख्या 16 थी , जो आज बढ़ कर 22 हो गई हैं । ये सब भाषाएँ भारत की अधिकृत भाषाएँ हैं, जिनमें भारत देश की सरकारों का काम होता है । भारतीय मुद्रा नोट पर 16 भाषाओं में नोट का मूल्य अंकित रहता है और भारत सरकार इन सभी भाषाओं के विकास के लिए संविधान अनुसा

अमीर खुसरो की चतुराई

एक बार गर्मियों के दिनों में अमीर खुसरो किसी गाँव की यात्रा पर निकले थे । रास्ते में उन्हें बहुत जोर की प्यास लगी । वे पानी की खोज में एक पनघट पर जा पहुँचे । वहां चार पनिहारिनें पानी भर रही थी । खुसरों ने उनसे पानी पिलाने का अनुरोध किया । उनमें से एक पनिहारिन खुसरो को पहचानती थी । उसने अपनी तीनों सहेलियों को बता दिया कि पहेलियाँ बनाने वाले यही अमीर खुसरों हैं । विदित है कि अमीर खुसरो अपनी पहेलियों,मुकरियों तथा दो-सखुनों के लिए जगत प्रसिद्ध हैं । फिर क्या था ? चारों पनिहारिनों में से एक ने कहा मुझे खीर पर कविता सुनाओ, तब पानी पिलाऊंगी । इसी तरह से दूसरी पनिहारिन ने चरखा, तीसरी ने ढोल और चौथी ने कुत्ते पर कविता सुनाने के लिए कहा । खुसरो बेचारे प्यास से व्याकुल थे । पर खुसरो की चतुराई देखिए कि उन्होंने एक ही छंद में उन सबकी इच्छानुसार कविता गढ़ कर सुना दी -               खीर पकाई जतन से, चरखा दिया जला । आया कुत्ता खा गया, तू बैठी ढोल बजा ।।                                                  ला पानी पीला ।  यह सुन कर पनिहारिनों की खुशी का ठीकाना न रहा । उन्होंने खुश होकर खुसरो को न केवल पानी

शेख और आलम

कवि आलम रीतिकाल के प्रसिद्ध कवि हुए । इनका जन्म सनाढ्य ब्राह्मण जाति में हुआ । उस समय देश में औरंगजेब का राज था । इनकी कवि प्रतिभा और चतुराई से औरंगजेब का लड़का बहुत प्रभावित था । उसके आग्रह पर ही आलम उनका राज कवि बना । एक बार उन्हें एक समस्या पहेली के रूप में दी गई और इसे पूरा करने के लिए कहा गया । दोहे की वह पंक्ति कुछ यूँ थी :- "कनक छरी सी कामिनी, काहे को कटि छीन " बहुत सोच-विचार करने पर भी वे इसके समाधान में दूसरी पंक्ति न सोच सके । जिस कागज पर यह पंक्ति लिखी गई थी, वह कागज उन्होंने अपनी पगड़ी में रख लिया । वह कागज उनकी पगड़ी के साथ धुलने के लिए रंगरेजिन के पास चला गया । कहते हैं कि वह रंगरेजिन बहुत सुंदर और चतुर थी । उसका नाम शेख था । जब उसने पगड़ी को धोने के लिए खोला, तो उसके हाथ वह कागज लगा, जिस पर पहेली-रूपी में वह पंक्ति लिखी थी । उसने समस्या को ध्यान से पढ़ा और उसके नीचे लिख दिया :- "कटि को कंचन काटि विधि कुचन मध्य धर दीनी ।" जब पगड़ी धुल गई तो उस कागज को ज्यों का त्यों उसमें रख दिया । जब आलम ने पगड़ी लेकर अपना कागज देखा तो उसमें समस्या का उत्तर लिखा हुआ द