सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

अन्ना हजारे होने के मायने

आज देश ने अन्ना हजारे को जितना प्यार और स्नेह दिया है,उतना देश की जनता ने शायद ही किसी ओर को दिया हो।अन्ना में ऐसा क्या है?जो उन्हें हमारे तथाकथित नेताओं से अलग करता है।पिछले बारह दिनों में अन्ना को मैंने जितना सुना,देखा और समझा है; उसके अनुसार अन्ना में अग्रलिखित गुण पाएं हैं:

1.कथनी और करनी में एकरूपता:: अन्ना हजारे हमारे समय के एक ऐसे युगपुरुष के रूप में उभरे हैं जिनकी कथनी और करनी एक है।वे जो बोले उस पर अडिग रहे।उनके हृदय की सरलता देखते ही बनती है।वे जो बोलते हैं,उसी के अनुरूप उनका कर्म है। दोहरापन या कूटनीति उनमें लेश मात्र भी नहीं है।वे विशुद्ध रूप से खरा सोना हैं।जिन्हें देश की जनता और युवा शक्ति पर पुरा भरोसा है।

2. निरहंकारिता: अन्ना जी में अहंकार और झूठे घमंड का तनिक भी दर्शन नहीं हुआ। उन्होंने भ्रष्टाचार के खिलाफ जो आंदोलन खड़ा किया,उसमें उनके हृदय की विशालता और इस निरंहकारिता का बहुत बड़ा योग है। देश में पहली बार ऐसा हुआ,जब किसी गैर-राजनीतिक पृष्ठभूमि के व्यक्ति ने देश को अपने साथ जोड़ा और इस पर उन्हें किसी प्रकार का गर्व या अहंकार किंचित भी न छू सका।सचमुच अन्ना एक संत छवि के व्यक्तित्व के रूप में उभरे हैं।

3. सत्य और सादगी का अनुपम उदाहरण : अन्ना जी का जीवन सत्य को समर्पित दिखाई पड़ता है।वे सत्य के लिए और आम आदमी के हकों के लिए लड़ते हुए दिखाई देते हैं। उनके सरल और सादगी भरे जीवन में सत्य प्रतिबिंबित हो उठा है। लोगों को पहली बार अहसास हुआ है कि व्यवस्था से झूठ और भ्रष्ट आचरण को दूर किया जा सकता है। पूरा देश उनके इस आंदोलन में उनके साथ जुड़ा और जनलोकपाल बिल को सरकार की कुजिद्द के बावजूद संसद में चर्चा के लिए रखना पड़ा और सांसदों ने इसके पक्ष में ध्वनिमत दिया।यह सत्य की असत्य पर जीत है। अन्ना जी ने भारत के सद्य-स्नात इस नारे को नये अर्थ दिए हैं कि सत्य की सदैव विजय होती है- सत्यमेव जयते। अन्ना ने भ्रष्टाचार के अंधकार से निकलने के लिए प्रकाश की एक ज्योत जलाई है।अन्ना ने असत्य से सत्य की ओर चलने का इस कलयुग में एक मार्ग दिखाया है।

4. दृढ़ता: अन्ना के व्यक्तित्व की एक अन्य विशेषता जो हमारे लिए प्रेरणा का स्रोत है:वह है उनकी अडिगता या संकल्प की दृढ़ता। उन्होंने हमें इस बात की सीख दी है कि अपने हृदय की आवाज़ सुनों और उसके अनुसार आचरण करो तथा कभी हृदय से निकली आवाज से डिगो नहीं। उस पर दृढ़ रहो। उसके लिए संघर्ष करो।उन्होंने आज यह बात साबित कर दी है कि सत्य के पथ पर चलने वाले लोग कभी अकेले नहीं पड़ते,,,लोग उनके साथ आ खड़े होते हैं और कुछ समय पहले तक जब यह समझा जा रहा था कि व्यवस्था को बदला नहीं जा सकता...व्यवस्था से भ्रष्टाचार को खतम नहीं किया जा सकता और देश से भ्रष्ट नेताओं के तंत्र को समाप्त नहीं किया जा सकता।इन सब बातों को अन्ना ने अपनी दृढ़ता से परास्त किया है। और लोगों में एक विश्वास पैदा हुआ है कि व्यवस्था से भ्रष्टाचार को हटाया जा सकता है यदि उद्देश्य नेक हो।

5. अहिंसा और देश-भक्ति की भावना: अन्ना एक सच्चे गांधीवादी हैं। आज गांधी यदि किसी रूप में जिंदा हैं तो वे अन्ना के रूप में हमारे सामने खड़े हैं। जिस पार्टी को गांधी ने खड़ा किया था...उसी पार्टी ने गांधी के विचारों और आदर्शों को स्वतंत्रता के बाद तिलांजलि दे दी और उन्हें भुला बैठी ...आज उसी पार्टी के लोग गांधी के रास्ते पर चलने वाले अन्ना के अनशन,अहिंसा और सत्य के मार्ग को धता बता रहें हैं...जबकि दूसरी ओर देश के एक छोटे से गाँव से उठे 74 वर्षीय अन्ना के जीवन में गांधी के आदर्श और विचार कूट-कूट कर भरें हैं। उन्होंने न केवल हमारे देश को बल्कि पूरे संसार को यह जता दिया है कि गांधी के आदर्श और विचार आज भी व्यवहारिक और समसामयिक हैं। उन्होंने देश के लोगों में देश-भक्ति की भावना का संचार किया है। उन्होंने हमारे युवाओं में देश-भावना का जज्बा फूंका है।

6. संयम और धैर्य:: अन्ना जी के पास संयम और धैर्य का असीम बल है।अन्ना ने अपने पूरे आंदोलन में कहीं भी संयम और धैर्य नहीं खोया।उन्हें अपने अंतस पर पूरा भरोसा है। उनका व्यक्तित्व कहीं भी बंटा हुआ नजर नहीं आया। उन्होंने अपनी वाणी पर पूरा नियंत्रण रखा है और विषम से विषम परिस्थिति में धैर्य के साथ बहुत ही विवेक से आचरण किया है। उनकी इस धीरता,गंभीरता और संयम ने उन्हें संत की श्रेणी में खड़ा कर दिया है।

7.विवेकशीलता:: अन्ना ने हर परिस्थिति में जो विवेक और समझदारी दिखाई है और उनसे जो निकला है...वह अकल्पनीय और स्वर्गीक अनुभव जैसा है। सरकार ने उन्हें अपने पथ से विचलित करने के लिए येन-केन-प्रकारेण,साम-दाम-दंड-भेद की नीति अपनाई...लेकिन उन्हें किंचित भी विचलित नहीं कर सकी और सरकार के पास अन्ना के प्रश्नों और मुद्दों का कोई तोड़ नजर नहीं आया। अन्ना जब भी बोले तो लगा कि अन्ना की बात में जितना दम है...सरकार के तर्कों में उसका एक प्रतिशत भी नहीं है। अन्ना के विवेक के सम्मुख सरकार निरुत्तर हो गई। 

सत्य  और भ्रष्टाचार के लिए लड़ने वाले इस योद्धा को हमारा शत-शत नमन है। अन्ना तुझे सलाम!!! 


टिप्पणियाँ

  1. Aapke ise bhavpoorn aur sarthak lekh ko naman .
    Lagta hai saara desh hee ek lambee moorcha se jag
    chetanavastha me aaya hai.
    yuva varg v aam aadmee me ye housala bana rahe aisee duaa hai.
    common man ka kad ab meree nazaro me bahut lamba ho gaya hai.
    Aabhar .

    जवाब देंहटाएं
  2. Bahut hi khoobsoorat vishleshan..manoj bhai....

    Jai Anna

    जवाब देंहटाएं
  3. अन्ना के जिन सद्गुणों का आपने वर्णन किया है, वे गुण ही उन्हें अन्य "नेताओं" से अलग करते हैं और उनको युगपुरुष बनाते हैं.. आज एक बहुत पुराने गीत की पैरोडी बनाने को जी चाहता है:
    भगवान करे मेरे देश के सब नेता ही बन जाएँ ऐसे,
    थोड़े से लाल बहादुर हों, थोड़े से हों अन्ना जैसे!

    मनोज भाई, आभार आपका इतने गहरे विश्लेषण का!!

    जवाब देंहटाएं
  4. निसंदेह अन्ना जी अद्वितीय गुणों की खान हैं। यही वजह है उन्हें इतना प्यार और समर्थन मिला। ऐसे व्यक्तित्व को नमन।

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राष्ट्रभाषा, राजभाषा या संपर्कभाषा हिंदी

आज हिंदी को बहुत से लोग राष्ट्रभाषा के रूप में देखते हैं । कुछ इसे राजभाषा के रूप में प्रतिष्ठित देखना चाहते हैं । जबकि कुछ का मानना है कि हिंदी संपर्क भाषा के रूप में विकसित हो रही है । आइए हम हिंदी के इन विभिन्न रूपों को विधिवत समझ लें, ताकि हमारे मन-मस्तिष्क में स्पष्टता आ जाए । राष्ट्रभाषा से अभिप्राय: है किसी राष्ट्र की सर्वमान्य भाषा । क्या हिंदी भारत की राष्ट्रभाषा है ? यद्यपि हिंदी का व्यवहार संपूर्ण भारतवर्ष में होता है,लेकिन हिंदी भाषा को भारतीय संविधान में राष्ट्रभाषा नहीं कहा गया है । चूँकि भारतवर्ष सांस्कृतिक, भौगोलिक और भाषाई दृष्टि से विविधताओं का देश है । इस राष्ट्र में किसी एक भाषा का बहुमत से सर्वमान्य होना निश्चित नहीं है । इसलिए भारतीय संविधान में देश की चुनिंदा भाषाओं को संविधान की आठवीं अनुसूची में रखा है । शुरु में इनकी संख्या 16 थी , जो आज बढ़ कर 22 हो गई हैं । ये सब भाषाएँ भारत की अधिकृत भाषाएँ हैं, जिनमें भारत देश की सरकारों का काम होता है । भारतीय मुद्रा नोट पर 16 भाषाओं में नोट का मूल्य अंकित रहता है और भारत सरकार इन सभी भाषाओं के विकास के लिए संविधान अनुसा

अमीर खुसरो की चतुराई

एक बार गर्मियों के दिनों में अमीर खुसरो किसी गाँव की यात्रा पर निकले थे । रास्ते में उन्हें बहुत जोर की प्यास लगी । वे पानी की खोज में एक पनघट पर जा पहुँचे । वहां चार पनिहारिनें पानी भर रही थी । खुसरों ने उनसे पानी पिलाने का अनुरोध किया । उनमें से एक पनिहारिन खुसरो को पहचानती थी । उसने अपनी तीनों सहेलियों को बता दिया कि पहेलियाँ बनाने वाले यही अमीर खुसरों हैं । विदित है कि अमीर खुसरो अपनी पहेलियों,मुकरियों तथा दो-सखुनों के लिए जगत प्रसिद्ध हैं । फिर क्या था ? चारों पनिहारिनों में से एक ने कहा मुझे खीर पर कविता सुनाओ, तब पानी पिलाऊंगी । इसी तरह से दूसरी पनिहारिन ने चरखा, तीसरी ने ढोल और चौथी ने कुत्ते पर कविता सुनाने के लिए कहा । खुसरो बेचारे प्यास से व्याकुल थे । पर खुसरो की चतुराई देखिए कि उन्होंने एक ही छंद में उन सबकी इच्छानुसार कविता गढ़ कर सुना दी -               खीर पकाई जतन से, चरखा दिया जला । आया कुत्ता खा गया, तू बैठी ढोल बजा ।।                                                  ला पानी पीला ।  यह सुन कर पनिहारिनों की खुशी का ठीकाना न रहा । उन्होंने खुश होकर खुसरो को न केवल पानी

शेख और आलम

कवि आलम रीतिकाल के प्रसिद्ध कवि हुए । इनका जन्म सनाढ्य ब्राह्मण जाति में हुआ । उस समय देश में औरंगजेब का राज था । इनकी कवि प्रतिभा और चतुराई से औरंगजेब का लड़का बहुत प्रभावित था । उसके आग्रह पर ही आलम उनका राज कवि बना । एक बार उन्हें एक समस्या पहेली के रूप में दी गई और इसे पूरा करने के लिए कहा गया । दोहे की वह पंक्ति कुछ यूँ थी :- "कनक छरी सी कामिनी, काहे को कटि छीन " बहुत सोच-विचार करने पर भी वे इसके समाधान में दूसरी पंक्ति न सोच सके । जिस कागज पर यह पंक्ति लिखी गई थी, वह कागज उन्होंने अपनी पगड़ी में रख लिया । वह कागज उनकी पगड़ी के साथ धुलने के लिए रंगरेजिन के पास चला गया । कहते हैं कि वह रंगरेजिन बहुत सुंदर और चतुर थी । उसका नाम शेख था । जब उसने पगड़ी को धोने के लिए खोला, तो उसके हाथ वह कागज लगा, जिस पर पहेली-रूपी में वह पंक्ति लिखी थी । उसने समस्या को ध्यान से पढ़ा और उसके नीचे लिख दिया :- "कटि को कंचन काटि विधि कुचन मध्य धर दीनी ।" जब पगड़ी धुल गई तो उस कागज को ज्यों का त्यों उसमें रख दिया । जब आलम ने पगड़ी लेकर अपना कागज देखा तो उसमें समस्या का उत्तर लिखा हुआ द