सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

उस दिन जिंदगी हार गई

अभी तो मुश्किल से
सत्रह बरस भी पूरे नहीं किए थे
और जिंदगी को यूं खत्म कर लिया
क्यों ... क्यों... क्यों ?

बार-बार अब भी पूछता रहता हूँ
बीस साल बीतने पर भी
नहीं भूला हूँ उस ह्रदय विदारक घटना को
जब तुमने उस सत्रह बरस की
कोमल काया को समाप्त कर लिया

शायद वो तुम्हारा निर्णय न रहा हो
तुम्हें उकसाया गया होगा
तुम्हें फुसलाया गया होगा
तुम्हें जीने के मोह से भटकाया गया होगा
समझ ही कहां रही होगी
जीने का मतलब ही कब जाना था

या वो दिन ही ऐसे रहे होंगे
जब मां-बाप की बेटे की चाहत ने
तुम तीनों बहनों को
हिला कर रख दिया होगा
अब तक जिन्हें नाज़ों से पाला गया था
जिनके लिए तुम सब बेटों के बराबर थी
उनके मनों में कहीं गहरे में बेटे की चाहत दबी थी
और प्रकृति ने भी अज़ब लीला रची थी
सोलह बरस बाद तुम्हारी मां की गोद फिर से हरी हुई थी
और कोख़ में बेटा दिया ...

तुम तीनों ने बहुत समझाया होगा
अपने मां-बाप को
कि नहीं चाहिए तुम्हें भाई
कि तुम सब हो उनकी पुत्रवत बेटियाँ
फिर पुत्र क्यों ?


सबसे पहले विरोध के स्वर बड़ी बेटी में उपजे
उसने मां को समझाया, नहीं चाहिए उन्हे भाई
मां-बाप और बेटियों में इस पर लम्बी बहसें हुई होंगी
पर नहीं झूके मां-बाप बेटियों की जिद्द पर
और बेटे को पलने दिया कोख में
नहीं था अहसास उन्हें बढ़ रहे घातक विरोध के परिणाम का

एक दिन बड़ी बेटी ने
कोशिश की अपनी जान लेने की
बचा लिया गया तब किसी तरह उसे
फिर तुम तीनों ने एक मन बनाया
मां बाप से मूक-बधिर बन गई
विद्रोह धीरे-धीरे बढ़ता गया
कोख में जीवन बढ़ता गया
इधर तुम्हारा जीवन-दर्शन जीवन विरोधी होता गया
जीने की तृष्णा जो कभी मिटती नहीं देखी गई
तुम्हारे लिए भारी हो गई
एक जीवन तुम तीनों पर भारी पड़ा

क्यों तुमने सोचा
कि भाई के आ जाने पर तुम
उपेक्षित हो जाओगी
और क्यों परवाह की जमाने की
कि इतने बरस बाद कैसे दोगी ख़बर
भाई के आने की
आस-पड़ौस और स्कूल कॉलेज़ के दोस्तों को
क्यों इस प्राकृतिक तथ्य को
सहजता से न लिया ?
और जीवन-संघर्ष से हार मान ली
शायद -
उपहास बर्दास्त नहीं होता तुम्हें
पर तुम्हारा आत्म-सम्मान कहीं बड़ा था जीवन से


और वह दिन आया
जब एक नये जीव ने संसार में आँखें खोली
और तुम तीनों ने जीवन से आँखे मूँद ली
एक साथ, तीनों में से एक भी नहीं डिगी
कितनी सामूहिक संकल्प शक्ति रही होगी
तुम तीनों में ,जब झूल गई फंदों पर एकसाथ ...
यह बदले की आग थी या
लड़की होने की दहशत ?
विश्व के पर्दे पर यह घटना बहुत बड़ी घटना बनके उभरी

मैं आज भी आहत हूँ
उस घटना से ...
बीस बरस बाद भी ।

टिप्पणियाँ

  1. अपने प्रिय को स्मरण करते हुए तथा अभिव्यक्ति की स्पषटता लिए भावभीनी रचना।

    जवाब देंहटाएं
  2. एक दिन बड़ी बेटी ने
    कोशिश की अपनी जान लेने की
    बचा लिया गया तब किसी तरह उसे
    फिर तुम तीनों ने एक मन बनाया
    मां बाप से मूक-बधिर बन गई
    विद्रोह धीरे-धीरे बढ़ता गया
    कोख में जीवन बढ़ता गया
    इधर तुम्हारा जीवन-दर्शन जीवन विरोधी होता गया
    जीने की तृष्णा जो कभी मिटती नहीं देखी गई
    तुम्हारे लिए भारी हो गई
    एक जीवन तुम तीनों पर भारी पड़ा

    अत्यंत सुन्दर रचना

    जवाब देंहटाएं
  3. आपने तो हिला कर रख दिया ......

    बस जुबां खामोश है और
    दिमाग की नसें झनझना रहीं हैं
    समझ सकती हूँ इस विद्रोह को .......!!

    जवाब देंहटाएं
  4. मर्माहत कर देने वाली रचना.

    कुछ जिद दिशाहीन होते है.

    कुछ विद्रोह दिशाहीन होते है.

    बहुत गहरे तक उतर गयी यह रचना

    जवाब देंहटाएं
  5. शायद -
    उपहास बर्दास्त नहीं होता तुम्हें
    पर तुम्हारा आत्म-सम्मान कहीं बड़ा था जीवन से

    सच बस गुमनाम ही रहता है. किन्तु, परन्तु, शायद सब बाद की बातें हैं...........
    सामूहिक संकल्प की द्रढता सचमुच विश्वसनीय नहीं पर घटित तो हुई, यही सच है, द्रढता डिगी नहीं, यही सबसे बड़ा सबूत है उपहास या आत्मसम्मान खोने के डर का.

    जो भी है, समाज के मुंह पर तमाचा है और अत्यंत मार्मिक ह्रदय विदारक घटना है...........

    अफ़सोस कि हम ऐसे कुत्सित समाज के ही एक अंग हैं.........

    चन्द्र मोहन गुप्त
    जयपुर
    www.cmgupta.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  6. भाई दूज की हार्दिक शुभकामनायें!
    बहुत ही गहरे भाव के साथ लिखी हुई आपकी ये रचना दिल को छू गई!

    जवाब देंहटाएं
  7. यह मार्मिक कविता आपके संवेदनशील हृदय को परिलक्षित करती है। कविता की मार्मिकता लिंग-भेद का सुस्पष्ट संदेश देती है। मुझे याद है आपने यह कविता राजभाषा अधिकारियों के सम्मेलन में सुनाई थी और यह उपस्थित हृदयों के मर्मको छू गई थी।

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राष्ट्रभाषा, राजभाषा या संपर्कभाषा हिंदी

आज हिंदी को बहुत से लोग राष्ट्रभाषा के रूप में देखते हैं । कुछ इसे राजभाषा के रूप में प्रतिष्ठित देखना चाहते हैं । जबकि कुछ का मानना है कि हिंदी संपर्क भाषा के रूप में विकसित हो रही है । आइए हम हिंदी के इन विभिन्न रूपों को विधिवत समझ लें, ताकि हमारे मन-मस्तिष्क में स्पष्टता आ जाए । राष्ट्रभाषा से अभिप्राय: है किसी राष्ट्र की सर्वमान्य भाषा । क्या हिंदी भारत की राष्ट्रभाषा है ? यद्यपि हिंदी का व्यवहार संपूर्ण भारतवर्ष में होता है,लेकिन हिंदी भाषा को भारतीय संविधान में राष्ट्रभाषा नहीं कहा गया है । चूँकि भारतवर्ष सांस्कृतिक, भौगोलिक और भाषाई दृष्टि से विविधताओं का देश है । इस राष्ट्र में किसी एक भाषा का बहुमत से सर्वमान्य होना निश्चित नहीं है । इसलिए भारतीय संविधान में देश की चुनिंदा भाषाओं को संविधान की आठवीं अनुसूची में रखा है । शुरु में इनकी संख्या 16 थी , जो आज बढ़ कर 22 हो गई हैं । ये सब भाषाएँ भारत की अधिकृत भाषाएँ हैं, जिनमें भारत देश की सरकारों का काम होता है । भारतीय मुद्रा नोट पर 16 भाषाओं में नोट का मूल्य अंकित रहता है और भारत सरकार इन सभी भाषाओं के विकास के लिए संविधान अनुसा

अमीर खुसरो की चतुराई

एक बार गर्मियों के दिनों में अमीर खुसरो किसी गाँव की यात्रा पर निकले थे । रास्ते में उन्हें बहुत जोर की प्यास लगी । वे पानी की खोज में एक पनघट पर जा पहुँचे । वहां चार पनिहारिनें पानी भर रही थी । खुसरों ने उनसे पानी पिलाने का अनुरोध किया । उनमें से एक पनिहारिन खुसरो को पहचानती थी । उसने अपनी तीनों सहेलियों को बता दिया कि पहेलियाँ बनाने वाले यही अमीर खुसरों हैं । विदित है कि अमीर खुसरो अपनी पहेलियों,मुकरियों तथा दो-सखुनों के लिए जगत प्रसिद्ध हैं । फिर क्या था ? चारों पनिहारिनों में से एक ने कहा मुझे खीर पर कविता सुनाओ, तब पानी पिलाऊंगी । इसी तरह से दूसरी पनिहारिन ने चरखा, तीसरी ने ढोल और चौथी ने कुत्ते पर कविता सुनाने के लिए कहा । खुसरो बेचारे प्यास से व्याकुल थे । पर खुसरो की चतुराई देखिए कि उन्होंने एक ही छंद में उन सबकी इच्छानुसार कविता गढ़ कर सुना दी -               खीर पकाई जतन से, चरखा दिया जला । आया कुत्ता खा गया, तू बैठी ढोल बजा ।।                                                  ला पानी पीला ।  यह सुन कर पनिहारिनों की खुशी का ठीकाना न रहा । उन्होंने खुश होकर खुसरो को न केवल पानी

शेख और आलम

कवि आलम रीतिकाल के प्रसिद्ध कवि हुए । इनका जन्म सनाढ्य ब्राह्मण जाति में हुआ । उस समय देश में औरंगजेब का राज था । इनकी कवि प्रतिभा और चतुराई से औरंगजेब का लड़का बहुत प्रभावित था । उसके आग्रह पर ही आलम उनका राज कवि बना । एक बार उन्हें एक समस्या पहेली के रूप में दी गई और इसे पूरा करने के लिए कहा गया । दोहे की वह पंक्ति कुछ यूँ थी :- "कनक छरी सी कामिनी, काहे को कटि छीन " बहुत सोच-विचार करने पर भी वे इसके समाधान में दूसरी पंक्ति न सोच सके । जिस कागज पर यह पंक्ति लिखी गई थी, वह कागज उन्होंने अपनी पगड़ी में रख लिया । वह कागज उनकी पगड़ी के साथ धुलने के लिए रंगरेजिन के पास चला गया । कहते हैं कि वह रंगरेजिन बहुत सुंदर और चतुर थी । उसका नाम शेख था । जब उसने पगड़ी को धोने के लिए खोला, तो उसके हाथ वह कागज लगा, जिस पर पहेली-रूपी में वह पंक्ति लिखी थी । उसने समस्या को ध्यान से पढ़ा और उसके नीचे लिख दिया :- "कटि को कंचन काटि विधि कुचन मध्य धर दीनी ।" जब पगड़ी धुल गई तो उस कागज को ज्यों का त्यों उसमें रख दिया । जब आलम ने पगड़ी लेकर अपना कागज देखा तो उसमें समस्या का उत्तर लिखा हुआ द