सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

वह अकेला आदमी ::2::

एक दिन वह गांव की कच्ची गलियों में अपने हमउम्र  बच्चों के साथ खेल रहा था। खेलते-खेलते वह नीम की छांव तले  आ गया। पीछे-पीछे उसका दोस्त सुरेश भी आ गया। वह जमीन में देखने लगा। जमीन कभी गारे-गोबर से लीपी गई थी। जमीन में उसे दो चीज़ें दिखाई दी। जो गारे-गोबर के साथ जमीन में धंस गई थी। एक  नए पैसे का सिक्का और एक स्वर्ण की आभा लिए श्वेत पत्थर। पैसे से अधिक उसे पत्थर ने आकर्षित किया। उसने अपने नन्हें हाथों से खुर्च-खुर्च कर उस पत्थर को जमीन से निकालने का प्रयास किया। तब तक उसके दोस्त की निगाह एक पैसे के सिक्के पर पड़ चुकी थी। सुरेश उस सिक्के को निकालने में लग गया।कुछ देर बाद उसने वह पत्थर जमीन से बाहर निकाल लिया था। उधर सुरेश ने भी तब तक नए पैसे का सिक्का जमीन से निकाल लिया।


सुरेश ने उससे पूछा, "मनु तूने मुझ से पहले यह सिक्का देख लिया था,फिर तू यह पत्थर क्यों निकालने लगा।"


उसने कहा, "देख यह पत्थर कितना सुंदर है। इस पर यह पीले रंग की धारी कितनी सुंदर लग रही है और यह देख इसका आकार तेरे सिक्के से कितना अच्छा है-गोल-गोल। इस पत्थर को मैं हमेशा अपने पास रखूंगा। यह कोई सिक्का थोड़े ही है,जो आज तुम्हारे पास और  कल किसी और का होगा।  यह पत्थर तो कीमती है। हमेशा पास में रखने लायक। इसको देखते ही मैं जान गया था कि यह कोई साधारण पत्थर नहीं है,बल्कि हिरा है हिरा।"


सुरेश को बात जंची कि सचमुच सिक्के से वह ज्यादा से ज्यादा एक मीठी गोली खरीद पाएगा। जबकि उसे मिला वह पत्थर तो बहुत सुंदर और गले में लटकाने लायक था। सुरेश को लालच आया। उसने मनु के हाथ से पत्थर छीन लिया और वहां से भाग गया। भाग कर वह अपने घर में घुस गया। घर में जाकर फूस भरे छप्पर में घुस गया। पीछे-पीछे वह भी भागा। लेकिन सुरेश छप्पर में जा कर दुबुक गया और वहां से बोला- "नहीं दूंगा तुम्हें यह पत्थर। यह तो मैं रखूंगा।"


मनु उदास और रुआंसा हो गया। वह अपनी मां के पास गया। मां को सारा किस्सा कह सुनाया। मां उसे लेकर सुरेश के पास आयी और उसे उसका पत्थर लौटाने को कहा।


सुरेश ने कहा, "सिक्का ले ले, पत्थर न दूंगा। पत्थर तो मैं ही रखूंगा।"


मां ने उसे समझाया "बेटा तू सिक्का ले ले, पत्थर से उसे खेलने दे।"


"नहीं मां, मुझे तो वह पत्थर ही चाहिए, पैसा लेना होता तो मैं पहले सिक्के को ही चुनता। दोनों को पहले मैंने ही देखा था।"


मां ने उसे समझाया, "बेटा न वह पैसा और न पत्थर ही तेरे थे। दोनों ही मिट्टी में सने थे। तूने पत्थर को कीमती समझा और उसने पैसे को। लेकिन दोनों ही पराए हैं। न वो तेरा था न यह तेरा। सब उसका ही उसका।  तू समझदार है और उससे बड़ा भी। घर चल, बहुत देर हो गई है। भूख लगी होगी।"  

टिप्पणियाँ

  1. लेकिन दोनों ही पराए हैं। न वो तेरा था न यह तेरा। सब उसका ही उसका।

    बहुत सुंदर बोध देती कथा..

    उत्तर देंहटाएं
  2. बाल हठ जो जंचें वही ठीक..
    बहुत सुन्दर ..

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी यह श्रृंखला पढते हुए बचपन में पढ़ी जैनेन्द्र कुमार की कथा "खेल" याद आ गयी. जहाँ उन्होंने एक घरौंदे का संकेत चुना, वहाएं इस कथांश में सिक्के और कीमती पत्थर के बिम्ब लिये गए हैं. कथांश का अंतिम भाग एक दार्शनिक अथवा आध्यात्मिक भाव की ओर इंगित कर रहा है.
    श्रृंखला का विस्तार आगे की कड़ियों के लिये आकर्षण बनाए रखने में सफल है. किन्तु पूरी पोस्ट को एक ही अनुच्छेद में लिख डालने से अच्छा होता यदि अनुच्छेद परिवर्तन किया गया होता तथा संवादों को अलग से दर्शाया गया होता. यह सज्जा की दृष्टि से विचारणीय है. आगे की कड़ियों की प्रतीक्षा रहेगी. कृपया दो कड़ियों के बीच अधिक अंतराल न रखें, जिससे पिछली कथा का तारतम्य बना रहे!

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

चमार राष्ट्रपति

लिंकन अमेरिका का राष्ट्रपति हुआ । उसका बाप एक गरीब चमार था । कौन सोचता था कि चमार के घर एक लड़का पैदा होगा, जो मुल्क में आगे खड़ा हो जाएगा ? अनेक-अनेक लोगों के मन को चोट पहुँची । एक चमार का लड़का राष्ट्रपति बन जाए । दूसरे जो धनी थे और सौभाग्यशाली घरों में पैदा हुए थे, वे पिछड़ रहे थे । जिस दिन सीनेट में पहला दिन लिंकन बोलने खड़ा हुआ, तो किसी एक प्रतिस्पर्धी ने, किसी महत्वाकांक्षी ने, जिसका क्रोध प्रबल रहा होगा, जो सह नहीं सका होगा, वह खड़ा हो गया । उसने कहा, "सुनों लिंकन, यह मत भूल जाना कि तुम राष्ट्रपति हो गए तो तुम एक चमार के लड़के नहीं हो । नशे में मत आ जाना । तुम्हारा बाप एक चमार था, यह खयाल रखना ।" सारे लोग हँसे, लोगों ने खिल्ली उड़ाई, लोगों को आनंद आया कि चमार का लड़का राष्ट्रपति हो गया था । चमार का लड़का कह कर उन्होंने उसकी प्रतिभा छीन ली ।फिर नीचे खड़ा कर दिया । लेकिन लिंकन की आँखें  खुशी के आँशुओं से भर गई । उसने हाथ जोड़ कर कहा कि मेरे स्वर्गीय पिता की तुमने स्मृति दिला दी, यह बहुत अच्छा किया । इस क्षण में मुझे खुद उनकी याद आनी चाहिए थी । लेकिन मैं तुमसे कहूँ, मैं…

राष्ट्रभाषा, राजभाषा या संपर्कभाषा हिंदी

आज हिंदी को बहुत से लोग राष्ट्रभाषा के रूप में देखते हैं । कुछ इसे राजभाषा के रूप में प्रतिष्ठित देखना चाहते हैं । जबकि कुछ का मानना है कि हिंदी संपर्क भाषा के रूप में विकसित हो रही है । आइए हम हिंदी के इन विभिन्न रूपों को विधिवत समझ लें, ताकि हमारे मन-मस्तिष्क में स्पष्टता आ जाए ।
राष्ट्रभाषा से अभिप्राय: है किसी राष्ट्र की सर्वमान्य भाषा । क्या हिंदी भारत की राष्ट्रभाषा है ? यद्यपि हिंदी का व्यवहार संपूर्ण भारतवर्ष में होता है,लेकिन हिंदी भाषा को भारतीय संविधान में राष्ट्रभाषा नहीं कहा गया है । चूँकि भारतवर्ष सांस्कृतिक, भौगोलिक और भाषाई दृष्टि से विविधताओं का देश है । इस राष्ट्र में किसी एक भाषा का बहुमत से सर्वमान्य होना निश्चित नहीं है । इसलिए भारतीय संविधान में देश की चुनिंदा भाषाओं को संविधान की आठवीं अनुसूची में रखा है । शुरु में इनकी संख्या 16 थी , जो आज बढ़ कर 22 हो गई हैं । ये सब भाषाएँ भारत की अधिकृत भाषाएँ हैं, जिनमें भारत देश की सरकारों का काम होता है । भारतीय मुद्रा नोट पर 16 भाषाओं में नोट का मूल्य अंकित रहता है और भारत सरकार इन सभी भाषाओं के विकास के लिए संविधान अनुसा…

मेरी सेवानिवृत्ति

एक दिन मैं भी
ऐसे ही सेवानिवृत्त हो
कर
जाउंगा कार्यालय से

लोग अनमने मन से
मुझे भी कुछ हार पहनाएंगे
थोड़े मेरी प्रशंसा में
वे शब्द कहेंगे
जिनमें न रस होगा
न ताज़गी
और फिर खाने-पीने
का दौर शुरु हो जाएगा

तब मैं घर लौट आऊंगा
और लोग धीरे-धीरे
मुझे भूल जाएंगें
कार्यालय वैसे ही चलता
रहेगा
जैसे आज चलता है
बस मैं न रहूंगा
न मेरे हस्ताक्षर होंगे
0
0
0
होगा एक विराट शून्य
जिसमें धीरे-धीरे
सब समा जाएगा
और अस्तित्व अपनी
एक महायात्रा पूरी
कर चुका होगा