सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

तू न आना इस देस,लाडो...

-- "यैस ओशो" पत्रिका  के "जुलाई 2011" अंक का संपादकीय
--लेखक :संजय भारती 

एक लोकप्रिय टी.वी. सीरियल का यह शीर्षक बिलकुल मौजू हो जाता है अंतरराष्ट्रीय सर्वेक्षण संस्था थॉमस रॉयटर्स के इस तथ्य-उद्-घाटन से कि स्त्रियों के लिए असुरक्षित देशों में भारत पूरे विश्व में चौथे स्थान पर आता है। विश्वास नहीं होता न! 

भारत में 30 लाख वेश्याएं हैं- अधिकारिक आँकड़ों के अनुसार। असली संख्या इससे कहीं ज्यादा होगी। अधिकारिक आँकड़ों के अनुसार जो 30 लाख वेश्याएं हैं,उनमें से 40 प्रतिशत चौदह वर्ष से कम उम्र की बच्चियां हैं। ये सब वे बच्चियां हैं जो चुरा ली गई या जिनके चाचा,भाई,पड़ौसी या स्वयं पिता तक ने पहले उनका उपभोग किया और फिर उन्हें बेच दिया। ज्ञात आँकड़ों के हिसाब से पिछले सौ वर्षों में 5 करोड़ बच्चियां गुम हुई हैं। विदेशी बैंकों में गुम हुआ भारत का धन तो आज सभी के जेहन में है,लेकिन ये 5 करोड़ बच्चियां? इनका क्या? 

थॉमस रॉयटर्स की रिपोर्ट के अनुसार भारत में महिलाओं के खिलाफ हो रहे अपराधों की लिस्ट में सबसे पहले स्थान पर आता है-स्त्रियों की भ्रूण ह्त्या। लेकिन परिवारों और बाजारों में हो रहे उनके यौन शोषण,बंधुआ मजदूर जैसी उनकी सामाजिक हैसियत, मूक आक्रांता के उनके रोल को देखें तो क्या ऐसा नहीं लगता कि अच्छा ही हुआ वो इस देश में पैदा नहीं हुई? 

सड़क चलते चूंटी काट लिया जाने, और न जाने कितनी अभद्र घटनाओं का सामना भारत में लड़कियां रोज करती हैं। और उनका प्रशिक्षण ऐसा है कि चूंटी कटवाओ और चुपचाप आगे बढ़ जाओ। जो होता है,होने दो- -कुछ कहो मत,क्योंकि तुम तो बेचारी स्त्री हो। विद्रोह मत करो। 

भारत के मानस में कुछ ऐसा है कि स्त्रियों ने स्वयं भी अपने को दूसरे दर्जे पर रख लिया है,इसलिए उनकी ओर से कोई विद्रोह नहीं आता। घर में सब कुछ होते हुए भी स्त्रियां खुद को ठीक से पोषित नहीं करती। यही कारण है कि भारत की 80 प्रतिशत स्त्रियां कुपोषण के कारण एनीमिया की शिकार हैं। 

स्त्रियों के मानस में ऐसा क्या गहरा चला गया है कि उनकी ओर से विद्रोह की छोड़ो,बल्कि जो होता है उसे होने देना उसके चरित्र का हिस्सा बना हुआ है? वह है कि सीता का आदर्श जो उन्हें दिया गया है। हर स्त्री के भीतर सीता उतर गई है,जिसे आग में चलवा लो तो चुपचाप चल लेगी,कोई आरोप लगा लो तो सिर झुकाकर स्वीकार कर लेगी,जंगल में फिंकवा दो तो अहोभाव मानेगी। लेकिन सीता को ही आदर्श रखना हो तो याद रहे सबकुछ स्वीकारती ही सीता नहीं है। सीता तो वहां से शुरु होती है,जहां वह राम के साथ वापस जाने से इनकार करती है--भले ही धरती में क्यों न समाना पड़े।वास्तव में तो यहीं रामायण समाप्त हो जाती है। और कुछ क्षण की ही क्यों नहीं,सीतायण जन्म लेती है। 

स्त्रियों के खिलाफ अपराधों में पुरुषों का तो हाथ है ही, स्वयं स्त्रियों का भी उतना ही है,क्योंकि वे अपराध सहती हैं। 

ओशो कहते हैं, "स्त्रियों को अपने लिए वाणी जुटानी होगी। और उनको वाणी तभी मिल सकती है सब दिशाओं में,जब तुम यह हिम्मत जुटाओ कि तुम्हारी अतीत की धारणाओं में निन्यानवे प्रतिशत अमानवीय हैं। और उन अमानवीय धारणाओं को चाहे कितने ही बड़े ऋषियों-मुनियों का समर्थन रहा हो,उनका कोई मूल्य नहीं है। न उन ऋषि-मुनियों का मूल्य है,न उन धारणाओं का कोई मूल्य है। चाहे वे वेद में लिखी हों,चाहे रामायण में लिखी हों,कुछ फर्क नहीं पड़ता। कहां लिखी हैं,इससे कोई सवाल नहीं है। एक पुनर्विचार की जरूरत है।"
                                                                     -0-

टिप्पणियाँ

  1. बहुत ही सारगर्भित आलेख।
    एक नए नज़रिए से समस्या को देखने का प्रयास अच्छा लगा।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सारगर्भित आलेख।
    एक नए नज़रिए से समस्या को देखने का प्रयास अच्छा लगा।

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. दिल दहला देने वाले आंकड़ों के साथ ...विचारणीय लेख

    सीता की सहनशीलता के साथ सीता का विद्रोह भी देखो .........सीतायन की जरूरत है..

    उत्तर देंहटाएं
  5. एक अवाक कर देने वाली बातें है ये... शर्मसार करने वाले तथ्य!! खंडित हो रही हैं बहुत सी धारणाएं.. लेकिन क्या सिर्फ शहरी महिलाओं की जागरूकता ही आंदोलन बन सकती है?? ग्रामीण भारत में कुछ नहीं बदला और आज भी उन्हीं ऋषी मुनियों की आरोपित धारणाएं फल फूल रही हैं!!
    (सलिल)

    उत्तर देंहटाएं
  6. .

    स्त्रियों की जो दुर्दशा है , उसे देखते हुए स्त्री होना एक श्राप के सामान लगता है. . कुछ na badal paane की लाचारी सताती है.

    वैसे समाज में बदलाव हो रहे हैं , लेकिन ये जागरूकता , उन पर हो रहे अत्याचारों की तुलना में नगण्य है. स्त्रियों की ये दासता समाप्त होने में अभी सदियाँ लगेंगी .

    इस जुल्म को देखकर , शीर्षक की सार्थकता स्वमेव ही सिद्ध हो जाती है.

    .

    उत्तर देंहटाएं
  7. KHAAP PANCHAYAT KA ASTITV JAB TAK BARKARAR HAI AUR JAB TAK GHAR-GHAR ME SHIKSHA KA DEEPAK NAHEE JAL JATA KISEE PRAKAR KA PARIVARTAN HO SAKTA HAI MAHILAO KEE STHITEE ME YE SOCHANA BHEE SAPNAA HEE HOGA.jagrukta kee
    flame swayam streeyo ko jalaanee hogee.

    उत्तर देंहटाएं
  8. ऐसी धारणाओं को बदलने की खातिर... लाडो(कन्याओं) का इस देस.. आना बहुत जरूरी है .....

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

चमार राष्ट्रपति

लिंकन अमेरिका का राष्ट्रपति हुआ । उसका बाप एक गरीब चमार था । कौन सोचता था कि चमार के घर एक लड़का पैदा होगा, जो मुल्क में आगे खड़ा हो जाएगा ? अनेक-अनेक लोगों के मन को चोट पहुँची । एक चमार का लड़का राष्ट्रपति बन जाए । दूसरे जो धनी थे और सौभाग्यशाली घरों में पैदा हुए थे, वे पिछड़ रहे थे । जिस दिन सीनेट में पहला दिन लिंकन बोलने खड़ा हुआ, तो किसी एक प्रतिस्पर्धी ने, किसी महत्वाकांक्षी ने, जिसका क्रोध प्रबल रहा होगा, जो सह नहीं सका होगा, वह खड़ा हो गया । उसने कहा, "सुनों लिंकन, यह मत भूल जाना कि तुम राष्ट्रपति हो गए तो तुम एक चमार के लड़के नहीं हो । नशे में मत आ जाना । तुम्हारा बाप एक चमार था, यह खयाल रखना ।" सारे लोग हँसे, लोगों ने खिल्ली उड़ाई, लोगों को आनंद आया कि चमार का लड़का राष्ट्रपति हो गया था । चमार का लड़का कह कर उन्होंने उसकी प्रतिभा छीन ली ।फिर नीचे खड़ा कर दिया । लेकिन लिंकन की आँखें  खुशी के आँशुओं से भर गई । उसने हाथ जोड़ कर कहा कि मेरे स्वर्गीय पिता की तुमने स्मृति दिला दी, यह बहुत अच्छा किया । इस क्षण में मुझे खुद उनकी याद आनी चाहिए थी । लेकिन मैं तुमसे कहूँ, मैं…

राष्ट्रभाषा, राजभाषा या संपर्कभाषा हिंदी

आज हिंदी को बहुत से लोग राष्ट्रभाषा के रूप में देखते हैं । कुछ इसे राजभाषा के रूप में प्रतिष्ठित देखना चाहते हैं । जबकि कुछ का मानना है कि हिंदी संपर्क भाषा के रूप में विकसित हो रही है । आइए हम हिंदी के इन विभिन्न रूपों को विधिवत समझ लें, ताकि हमारे मन-मस्तिष्क में स्पष्टता आ जाए ।
राष्ट्रभाषा से अभिप्राय: है किसी राष्ट्र की सर्वमान्य भाषा । क्या हिंदी भारत की राष्ट्रभाषा है ? यद्यपि हिंदी का व्यवहार संपूर्ण भारतवर्ष में होता है,लेकिन हिंदी भाषा को भारतीय संविधान में राष्ट्रभाषा नहीं कहा गया है । चूँकि भारतवर्ष सांस्कृतिक, भौगोलिक और भाषाई दृष्टि से विविधताओं का देश है । इस राष्ट्र में किसी एक भाषा का बहुमत से सर्वमान्य होना निश्चित नहीं है । इसलिए भारतीय संविधान में देश की चुनिंदा भाषाओं को संविधान की आठवीं अनुसूची में रखा है । शुरु में इनकी संख्या 16 थी , जो आज बढ़ कर 22 हो गई हैं । ये सब भाषाएँ भारत की अधिकृत भाषाएँ हैं, जिनमें भारत देश की सरकारों का काम होता है । भारतीय मुद्रा नोट पर 16 भाषाओं में नोट का मूल्य अंकित रहता है और भारत सरकार इन सभी भाषाओं के विकास के लिए संविधान अनुसा…

मेरी सेवानिवृत्ति

एक दिन मैं भी
ऐसे ही सेवानिवृत्त हो
कर
जाउंगा कार्यालय से

लोग अनमने मन से
मुझे भी कुछ हार पहनाएंगे
थोड़े मेरी प्रशंसा में
वे शब्द कहेंगे
जिनमें न रस होगा
न ताज़गी
और फिर खाने-पीने
का दौर शुरु हो जाएगा

तब मैं घर लौट आऊंगा
और लोग धीरे-धीरे
मुझे भूल जाएंगें
कार्यालय वैसे ही चलता
रहेगा
जैसे आज चलता है
बस मैं न रहूंगा
न मेरे हस्ताक्षर होंगे
0
0
0
होगा एक विराट शून्य
जिसमें धीरे-धीरे
सब समा जाएगा
और अस्तित्व अपनी
एक महायात्रा पूरी
कर चुका होगा