सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

हिंदू विवाह : एक संस्कार

हिंदू दर्शन में विवाह एक संस्कार के रूप में स्वीकृत है। भारत में प्राचीन समय से ही विवाह संबंधी अनेक प्रत्यय जैसे-परिणयन,उपयम,पाणिग्रहण आदि प्रचलित रहें हैं।इन प्रत्ययों में विवाह संस्कार के अनेक पहलू सम्मिलित हैं।

स्त्री-पुरुष के पारस्परिक संबंधों के लिए प्रत्येक समाज में कोई न कोई संस्थात्मक व्यवस्था होती है।जिससे परिवार बनता है। परिवार किसी समाज की आधारभूत इकाई है।यह स्त्री-पुरुष के संबंधों पर आधारित है।परिवार के निर्माण के लिए विवाह समाज द्वारा स्वीकृत एक मान्य संस्था है। दूसरे शब्दों में विवाह यौन संबंधों को स्थापित करने की एक सामाजिक और सांस्कृतिक व्यवस्था है। इसी कारण भारतीय शास्त्रकारों ने विवाह तथा गृहस्थ जीवन को अत्यधिक महत्त्व दिया है। भारतीय दर्शन में मानव जीवन के चार पुरुषार्थों (धर्म,अर्थ,काम,मोक्ष) में काम की पूर्ति हेतु विवाह का विधान है। इसी के द्वारा मनुष्य अपने पितृ-ऋण से मुक्त होता है।

समाजशास्त्री डॉ. कपाड़िया के अनुसार," हिंदू विवाह स्त्री-पुरुष के बीच धर्म के पालन की दृष्टि से एक ऐसा संस्कार है,जो जन्म-जन्मांतर के संबंधों की धारणा पर आधारित है।....हिंदू विवाह को इसलिए एक संस्कार माना जाता है क्योंकि यह तभी पूर्ण समझा जाता है,जब कुछ पवित्र मंत्रों द्वारा किन्हीं रीतियों का पालन करते हुए संपन्न हो।"

डॉ. पी.एन.प्रभु के अनुसार, "हिंदू विवाह मुख्यत: एक संस्कार और औपचारिकता है,जिसका होना गृहस्थ आश्रम में प्रवेश के लिए आवश्यक है।विवाह का अर्थ ही कन्या को वर के घर ले जाना है।"

मेनडोएक ने संसार के 250 समाजों में प्रचलित विवाह-प्रथा का तुलनात्मक अध्ययन किया और इस निष्कर्ष पर पहुंचा कि विवाह के तीन मुख्य उद्देश्य हैं-1. यौन संबंधी आनंद 2.आर्थिक सहयोग 3. बच्चों का पालन-पोषण। मेनडोएक ने विवाह के यौन संबंधी उद्देश्य को गौण बताया है। उसने आर्थिक सहयोग और बच्चों के लालन-पालन को प्रमुख माना है।उसने बहुत से उदाहरण रखे हैं जिनके द्वारा यह सिद्ध किया गया है कि यौन-संबंध को एक गौण स्थान पर रखा जा सकता है। कुछ समाज में पति और पत्नी को यौन संबंध के लिए पूर्ण स्वतंत्रता होती है।वे दूसरे के साथ भी यौन संबंध स्थापित रख सकते हैं। इसके विपरीत्त कुछ समाजों में पति-पत्नी का अन्य के साथ यौन संबंध रखना अवैध और अधार्मिक माना जाता है।परंतु सभी समाजों में आर्थिक सहयोग और बच्चे का पालन-पोषण करना विवाह का मुख्य उद्देश्य होता है;किंतु भारत में हिंदू विवाह के उद्देश्य एक भिन्न धरातल पर स्थित हैं।

हिंदू विवाह के उद्देश्य तथा आदर्श के बारे में धर्मशास्त्रों में अनेक मतों की प्रतिस्थापना की गई है। ऋग्वेद के अनुसार विवाह का उद्देश्य गृहस्थ होकर देवों के लिए यज्ञ करना तथा संतान उत्पन्न करना है। ऐतरेय ब्राह्मण के अनुसार,व्यक्ति,पति-पत्नी द्वारा गर्भ में पुत्र रूप में जन्म लेता है।इसी कारण स्त्री को जाया कहा गया है।शतपथ ब्राह्मण के अनुसार,व्यक्ति तब तक अपूर्ण है,जब तक कि विवाह करके संतान को जन्म नहीं देता।इसी कारण पत्नी को अर्धांगनी कहा गया है। मनुस्मृति के अनुसार संतानोत्पत्ति ,धर्म,आनंद,सेवा तथा पूर्वजों की स्वर्ग-प्राप्ति पत्नी पर निर्भर है।

इस प्रकार हिंदू विवाह के उद्देश्यों में तीन प्रमुख कारण लक्षित होते हैं :- 1. धर्म 2. प्रजा 3. रति । ये तीनों महत्ता के क्रम में रखे गए हैं। धर्म को सबसे प्रमुख माना गया है और रति को सबसे कम महत्त्वपूर्ण माना गया है। इनके बारे में विस्तार से हम अगली पोस्ट में चर्चा करेंगे। 


टिप्पणियाँ

  1. अच्छा आलेख. अगामी आलेख की प्रतीक्षा रहेगी.

    उत्तर देंहटाएं
  2. विवाह की संस्था के विषय में शास्त्रीय और समाज्शात्रीय विचार पढकर अच्छा लगा. किन्तु आजकल जब ये सारी मान्यताएं भंग हो रही हैं, यह संस्था भी एक नए रूप में परिभाषित होने की कगार पर है. समाज में सम्मानित बिनब्याही माताएं और लिव-इन रिलेशनशिप जैसी मान्यताएं विवाह की संस्था के समक्ष चुनौती भले ही न खड़ी करें, परिभाषाओं को परिमार्जित करने को प्रेरित अवश्य करती हैं!!
    अच्छा आलेख!! चलते रहना चाहिए!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. Humaree sanskruti par prakash daalta ek accha aalekh Ha badlate parivesh me bahut kuch soch bhee badlee hai ise santhan ko ab vo maanyta nahee mil rahee hai par isase dushparinaam bhee saamne aae .
    sabhee bhoutik sukh ko hee maksad bana jindgee kee doud me dhavak ban gaye hai...:( aage bad rahe hai rishte ya to peeche rah gaye ya choot hee gaye hai.....ye hai aaj kee vidambana......

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छा समाजशास्त्री विवेचन मनोज भाई!

    विवाह एक सामाजिक व्यवस्था भर है।
    शुद्ध प्रेम को किसी संस्कार या बन्धन की दरकार नहीं।

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

चमार राष्ट्रपति

लिंकन अमेरिका का राष्ट्रपति हुआ । उसका बाप एक गरीब चमार था । कौन सोचता था कि चमार के घर एक लड़का पैदा होगा, जो मुल्क में आगे खड़ा हो जाएगा ? अनेक-अनेक लोगों के मन को चोट पहुँची । एक चमार का लड़का राष्ट्रपति बन जाए । दूसरे जो धनी थे और सौभाग्यशाली घरों में पैदा हुए थे, वे पिछड़ रहे थे । जिस दिन सीनेट में पहला दिन लिंकन बोलने खड़ा हुआ, तो किसी एक प्रतिस्पर्धी ने, किसी महत्वाकांक्षी ने, जिसका क्रोध प्रबल रहा होगा, जो सह नहीं सका होगा, वह खड़ा हो गया । उसने कहा, "सुनों लिंकन, यह मत भूल जाना कि तुम राष्ट्रपति हो गए तो तुम एक चमार के लड़के नहीं हो । नशे में मत आ जाना । तुम्हारा बाप एक चमार था, यह खयाल रखना ।" सारे लोग हँसे, लोगों ने खिल्ली उड़ाई, लोगों को आनंद आया कि चमार का लड़का राष्ट्रपति हो गया था । चमार का लड़का कह कर उन्होंने उसकी प्रतिभा छीन ली ।फिर नीचे खड़ा कर दिया । लेकिन लिंकन की आँखें  खुशी के आँशुओं से भर गई । उसने हाथ जोड़ कर कहा कि मेरे स्वर्गीय पिता की तुमने स्मृति दिला दी, यह बहुत अच्छा किया । इस क्षण में मुझे खुद उनकी याद आनी चाहिए थी । लेकिन मैं तुमसे कहूँ, मैं…

राष्ट्रभाषा, राजभाषा या संपर्कभाषा हिंदी

आज हिंदी को बहुत से लोग राष्ट्रभाषा के रूप में देखते हैं । कुछ इसे राजभाषा के रूप में प्रतिष्ठित देखना चाहते हैं । जबकि कुछ का मानना है कि हिंदी संपर्क भाषा के रूप में विकसित हो रही है । आइए हम हिंदी के इन विभिन्न रूपों को विधिवत समझ लें, ताकि हमारे मन-मस्तिष्क में स्पष्टता आ जाए ।
राष्ट्रभाषा से अभिप्राय: है किसी राष्ट्र की सर्वमान्य भाषा । क्या हिंदी भारत की राष्ट्रभाषा है ? यद्यपि हिंदी का व्यवहार संपूर्ण भारतवर्ष में होता है,लेकिन हिंदी भाषा को भारतीय संविधान में राष्ट्रभाषा नहीं कहा गया है । चूँकि भारतवर्ष सांस्कृतिक, भौगोलिक और भाषाई दृष्टि से विविधताओं का देश है । इस राष्ट्र में किसी एक भाषा का बहुमत से सर्वमान्य होना निश्चित नहीं है । इसलिए भारतीय संविधान में देश की चुनिंदा भाषाओं को संविधान की आठवीं अनुसूची में रखा है । शुरु में इनकी संख्या 16 थी , जो आज बढ़ कर 22 हो गई हैं । ये सब भाषाएँ भारत की अधिकृत भाषाएँ हैं, जिनमें भारत देश की सरकारों का काम होता है । भारतीय मुद्रा नोट पर 16 भाषाओं में नोट का मूल्य अंकित रहता है और भारत सरकार इन सभी भाषाओं के विकास के लिए संविधान अनुसा…

मेरी सेवानिवृत्ति

एक दिन मैं भी
ऐसे ही सेवानिवृत्त हो
कर
जाउंगा कार्यालय से

लोग अनमने मन से
मुझे भी कुछ हार पहनाएंगे
थोड़े मेरी प्रशंसा में
वे शब्द कहेंगे
जिनमें न रस होगा
न ताज़गी
और फिर खाने-पीने
का दौर शुरु हो जाएगा

तब मैं घर लौट आऊंगा
और लोग धीरे-धीरे
मुझे भूल जाएंगें
कार्यालय वैसे ही चलता
रहेगा
जैसे आज चलता है
बस मैं न रहूंगा
न मेरे हस्ताक्षर होंगे
0
0
0
होगा एक विराट शून्य
जिसमें धीरे-धीरे
सब समा जाएगा
और अस्तित्व अपनी
एक महायात्रा पूरी
कर चुका होगा