सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

एकाकी जीवन

एकाकी है यह जीवन
चिंतन बहुत
मनन बहुत
पर है सूना बहुत
कोई नहीं जिसे समझा सकूँ
इस मन की पीड़ा को
इस चिंता के विषय को
इस मनन के बिंदु को
बस छटपटा कर रह जाता हूँ
एक अभाव से भर जाता हूँ
कि मैं जैसा हूँ वैसा क्यों हूँ
क्या मैं स्वयं जैसा होने को हूँ अभिशप्त
या है यह स्वयं को समझने की सजा
कि-
चिंतन है
मनन है
विचार है
पर कोई साथी नहीं जिसे समझा सकूँ
ठीक वैसा जैसा मैं हूँ !!!

टिप्पणियाँ

  1. chitan manan aatm manthan bhavishy sudhar dete hai
    Aaj ke vyst jeevan me sabhee ko apanee padee hai samay kanha ki doosaro ko samjhane baithe..........par nirasha ko jagah mat theejiye...........ye ghatak siddh hotee hai.........
    ho sakta hai koi ho jo ise vytha ko samajhata bhee ho............
    acchee post ke liye aabhar.

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस मन की पीड़ा को
    इस चिंता के विषय को
    इस मनन के बिंदु को
    बस छटपटा कर रह जाता हूँ
    एक अभाव से भर जाता हूँ
    कि मैं जैसा हूँ वैसा क्यों हूँ

    वैसे क्यों हैं ....कुछ संस्कार तो खून में ही होते हैं ....जिसे लाख चाहें हम बदल नहीं पाते ....बस अच्छा इन्सान बने रहे यही काफी है ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस मन की पीड़ा को
    इस चिंता के विषय को
    इस मनन के बिंदु को
    बस छटपटा कर रह जाता हूँ
    एक अभाव से भर जाता हूँ
    कि मैं जैसा हूँ वैसा क्यों हूँ
    bahut sundar lagi rachna ,aadat badalana sambhav nahi ....

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर प्रस्तुति

    दूसरे को समझाने का आग्रह भी क्यों!
    खुद समझे यही क्या बहुत नहीं.

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपके जईसा दूसरा त बस आईना हो सकता है... गाने वाला लोग आईना के सामने गाता है, ताकि देकेहे कि चेहरा बिगड़ त नहीं रहा है, अभिनेता आईना के सामने अभिनय करता है , ताकि देखे कि एक्स्प्रेसन ठीक त है न, डांस करने वाला आईना के सामने डांस करता है ताकि देखे कि एस्टेप ठीक है कि नहीं... आईना से अच्छा कोई दोस्त नहीं, एकदम अपने जईसा… इसके सामने रोने से मन हलका होताहै अऊर ई किसी को बोलता भी नहीं है...

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. मनोज जी . सब आपकी तरह नही हो सकते . प्रयास ही किया जा सकता है । यही बुद्ध और गाँधी ने किया ।
    रचना प्रशंसनीय ।

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

चमार राष्ट्रपति

लिंकन अमेरिका का राष्ट्रपति हुआ । उसका बाप एक गरीब चमार था । कौन सोचता था कि चमार के घर एक लड़का पैदा होगा, जो मुल्क में आगे खड़ा हो जाएगा ? अनेक-अनेक लोगों के मन को चोट पहुँची । एक चमार का लड़का राष्ट्रपति बन जाए । दूसरे जो धनी थे और सौभाग्यशाली घरों में पैदा हुए थे, वे पिछड़ रहे थे । जिस दिन सीनेट में पहला दिन लिंकन बोलने खड़ा हुआ, तो किसी एक प्रतिस्पर्धी ने, किसी महत्वाकांक्षी ने, जिसका क्रोध प्रबल रहा होगा, जो सह नहीं सका होगा, वह खड़ा हो गया । उसने कहा, "सुनों लिंकन, यह मत भूल जाना कि तुम राष्ट्रपति हो गए तो तुम एक चमार के लड़के नहीं हो । नशे में मत आ जाना । तुम्हारा बाप एक चमार था, यह खयाल रखना ।" सारे लोग हँसे, लोगों ने खिल्ली उड़ाई, लोगों को आनंद आया कि चमार का लड़का राष्ट्रपति हो गया था । चमार का लड़का कह कर उन्होंने उसकी प्रतिभा छीन ली ।फिर नीचे खड़ा कर दिया । लेकिन लिंकन की आँखें  खुशी के आँशुओं से भर गई । उसने हाथ जोड़ कर कहा कि मेरे स्वर्गीय पिता की तुमने स्मृति दिला दी, यह बहुत अच्छा किया । इस क्षण में मुझे खुद उनकी याद आनी चाहिए थी । लेकिन मैं तुमसे कहूँ, मैं…

राष्ट्रभाषा, राजभाषा या संपर्कभाषा हिंदी

आज हिंदी को बहुत से लोग राष्ट्रभाषा के रूप में देखते हैं । कुछ इसे राजभाषा के रूप में प्रतिष्ठित देखना चाहते हैं । जबकि कुछ का मानना है कि हिंदी संपर्क भाषा के रूप में विकसित हो रही है । आइए हम हिंदी के इन विभिन्न रूपों को विधिवत समझ लें, ताकि हमारे मन-मस्तिष्क में स्पष्टता आ जाए ।
राष्ट्रभाषा से अभिप्राय: है किसी राष्ट्र की सर्वमान्य भाषा । क्या हिंदी भारत की राष्ट्रभाषा है ? यद्यपि हिंदी का व्यवहार संपूर्ण भारतवर्ष में होता है,लेकिन हिंदी भाषा को भारतीय संविधान में राष्ट्रभाषा नहीं कहा गया है । चूँकि भारतवर्ष सांस्कृतिक, भौगोलिक और भाषाई दृष्टि से विविधताओं का देश है । इस राष्ट्र में किसी एक भाषा का बहुमत से सर्वमान्य होना निश्चित नहीं है । इसलिए भारतीय संविधान में देश की चुनिंदा भाषाओं को संविधान की आठवीं अनुसूची में रखा है । शुरु में इनकी संख्या 16 थी , जो आज बढ़ कर 22 हो गई हैं । ये सब भाषाएँ भारत की अधिकृत भाषाएँ हैं, जिनमें भारत देश की सरकारों का काम होता है । भारतीय मुद्रा नोट पर 16 भाषाओं में नोट का मूल्य अंकित रहता है और भारत सरकार इन सभी भाषाओं के विकास के लिए संविधान अनुसा…

मेरी सेवानिवृत्ति

एक दिन मैं भी
ऐसे ही सेवानिवृत्त हो
कर
जाउंगा कार्यालय से

लोग अनमने मन से
मुझे भी कुछ हार पहनाएंगे
थोड़े मेरी प्रशंसा में
वे शब्द कहेंगे
जिनमें न रस होगा
न ताज़गी
और फिर खाने-पीने
का दौर शुरु हो जाएगा

तब मैं घर लौट आऊंगा
और लोग धीरे-धीरे
मुझे भूल जाएंगें
कार्यालय वैसे ही चलता
रहेगा
जैसे आज चलता है
बस मैं न रहूंगा
न मेरे हस्ताक्षर होंगे
0
0
0
होगा एक विराट शून्य
जिसमें धीरे-धीरे
सब समा जाएगा
और अस्तित्व अपनी
एक महायात्रा पूरी
कर चुका होगा