सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पुरुषार्थ

पुरुषार्थ क्या है?
पुरुषार्थ हिंदू सामाजिक व्यवस्था का मनो-सामाजिक आधार है।हिंदू सामाजिक दर्शन के अंतर्गत प्रतिपादित पुरुषार्थ की अवधारणा,जीवन के प्रमुख लक्ष्य की व्याख्या करती है। इसके अंतर्गत चार पुरुषार्थ स्वीकृत हैं,जो मानव के उन चार लक्ष्य-स्तम्भों की ओर संकेत करते हैं,जिनकी प्राप्ति मानव जीवन के लिए अनिवार्य है। भारतीय दर्शन के अनुसार,मानव जीवन का परम लक्ष्य मोक्ष की प्राप्ति है।अर्थ तथा काम इस लक्ष्य तक पहुंचने के माध्यम हैं। इन माध्यमों का प्रयोग किस प्रकार किया जाय,इसे स्पष्ट करने वाला महानियम धर्म है। इस प्रकार हिंदू दर्शन ने मानव जीवन के लिए धर्म,अर्थ,काम व मोक्ष को स्वीकार किया है।हमारा स्पष्ट मत है कि"पुरुषार्थ व्यक्ति के होने का अर्थ सिद्ध करता है।"काम तो प्रत्येक मनुष्य की स्वाभाविक प्रवृत्ति है।काम और अन्य जीवन आवश्यकताओं की पूर्ति तथा समाज की जीवन व्यवस्था का साधन है-अर्थ अर्थात धन। धर्म वह महानियम है जिसके नियंत्रण में काम और अर्थ का संयमित उपयोग होने पर जीवन का परम लक्ष्य मोक्ष सहज ही प्राप्त हो जाता है। वैशेषिक दर्शन के अनुसार,जिससे इस लोक में मनुष्य की उन्नति हो और परलोक में मुक्ति की प्राप्ति हो,वही धर्म है।धर्म,अर्थ और काम समूह को त्रिवर्ग कहा गया है।धर्म नैतिक आदर्शों को बताता है।अर्थ से भौतिक साधनों की पूर्ति होती है और काम मनुष्य की शारीरिक,मानसिक और प्राणात्मक इच्छाओं को पूरा करता है। अर्थ और काम मनुष्य के सामाजिक पक्ष का बोध कराते हैं,जबकि धर्म नैसर्गिक पक्ष की तरफ संकेत करता है। काम शब्द का संबोधन न्यूनतम स्तर पर वासना(सेक्सुअल ड्राइव) के लिए होता है,जिसे मनुष्य के छ: दुश्मनों में से एक माना जाता है।काम,क्रोध,लोभ,मोह,मद और मत्सर(ईर्ष्या) मनुष्य के यही छ: रिपु हैं। इस संसार में अर्थ बिना काम नहीं चल सकता। जीवन को बिताने के लिए भौतिक साधनों का होना आवश्यक है। काम भी सृष्टि की वृद्धि के लिए परमआवश्यक है। काम की पूर्ति हेतु विवाह का प्रावधान है।अर्थ और काम धर्म के आधार पर ही अपनाए जाने चाहिए। धर्म सर्वोच्च है और अर्थ को मध्य स्थान पर रखना चाहिए तथा काम को सबसे निम्न स्थान पर रखा जाए।तभी जीवन में संतुलन और मोक्ष की प्राप्ति संभव है। गीता में रजोगुण को काम की उत्पत्ति का स्रोत माना गया है। गीता के अनुसार,"जिस प्रकार धुयें से अग्नि और मन से दर्पण ढक जाता है,उसी प्रकार काम ज्ञान को आच्छादित करके जीवात्मा को मोहित करता है।"धर्म पर चलते हुए अर्थ का अर्जन और काम की तुष्टि करना मनुष्य का कर्त्तव्य है। इस त्रिवर्ग के द्वारा मनुष्य अपने जीवन के परम लक्ष्य मोक्ष को प्राप्त कर सकता है।इस प्रकार पुरुषार्थ सार्थक जीवन शक्ति का प्रतीक है,जो सांसारिक सुख-भोग के बीच,धर्म पालन के माध्यम से मोक्ष की प्राप्ति का मार्ग दिखाता है।

डॉ. कपाड़िया के अनुसार, "मोक्ष मानव जीवन का चरम लक्ष्य तथा आध्यात्मिक अनुभूति का प्रतीक है।काम मानव की सहज प्रवृत्ति तथा उसकी संतुष्टि की ओर संकेत करता है।अर्थ मानव और सांसारिक क्रिया-कलापों का प्रतिनिधित्व करता है। धर्म पाश्विक तथा दैवी प्रकृति की शृंखला है।इस प्रकार भारतीय विचारधारा के अंतर्गत मानव के चरम लक्ष्यों को चार प्रमुख भागों में विभक्त किया गया है। मानव जीवन के इन चार लक्ष्यों को समन्वित रूप से पुरुषार्थ कहा गया है।"

पुरुषार्थ जीवन का संतुलित पक्ष बनाते हैं और सामाजिक-व्यवस्था में लोक मानस के मनो-सामाजिक आधार बनते हैं।इन्हीं के आधार पर आश्रम-व्यवस्था बनी है।

टिप्पणियाँ

  1. कहा गया है, “आपका आज का पुरुषार्थ आपका कल का भाग्य है|”
    लेकिन इसके लिए प्रराक्रम से हीन नहीं होना चाहिए - पराक्रम दिखाने का अवसर आने पर जो दुख सह लेता है (लेकिन पराक्रम नही दिखाता) उस तेज से हीन का पुरुषार्थ सिद्ध नही होता )।

    उत्तर देंहटाएं
  2. पुरुषार्थ-धर्म की शास्त्रीय व्याख्या. धन्यवाद मनोज जी.

    उत्तर देंहटाएं
  3. bakwaas likha hai sab.........

    purusharth per koi kaise likh sakta hai yaa bol sakta hai jab tak vyakti ne swayam ke jeevan ko pee nahi liya ho...

    Dharm aur uske vishyon per kaise bola ja sakta hai...kya har har shabd dharm ko aur napunsak nahi bana deta??

    उत्तर देंहटाएं
  4. आलेख पढ़ कर
    असीम आनंद की अनुभूति हुई

    उत्तर देंहटाएं
  5. वो चराग़ जो जला था,हमारी पहली मुलाक़ात के साथ
    बुझ गया आज तेरी शहनाइयो की रात के साथ......

    उत्तर देंहटाएं
  6. मनोज भारती जी, चार पुरुषार्थों की शास्त्रीय व्याख्या की प्रस्तुति के लिये धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  7. Ati Uttam .
    aapke blog par aakar sadaive hee sukoon milta hai .
    sath hee gyanvardhan bhee hota hai .

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राष्ट्रभाषा, राजभाषा या संपर्कभाषा हिंदी

आज हिंदी को बहुत से लोग राष्ट्रभाषा के रूप में देखते हैं । कुछ इसे राजभाषा के रूप में प्रतिष्ठित देखना चाहते हैं । जबकि कुछ का मानना है कि हिंदी संपर्क भाषा के रूप में विकसित हो रही है । आइए हम हिंदी के इन विभिन्न रूपों को विधिवत समझ लें, ताकि हमारे मन-मस्तिष्क में स्पष्टता आ जाए ।
राष्ट्रभाषा से अभिप्राय: है किसी राष्ट्र की सर्वमान्य भाषा । क्या हिंदी भारत की राष्ट्रभाषा है ? यद्यपि हिंदी का व्यवहार संपूर्ण भारतवर्ष में होता है,लेकिन हिंदी भाषा को भारतीय संविधान में राष्ट्रभाषा नहीं कहा गया है । चूँकि भारतवर्ष सांस्कृतिक, भौगोलिक और भाषाई दृष्टि से विविधताओं का देश है । इस राष्ट्र में किसी एक भाषा का बहुमत से सर्वमान्य होना निश्चित नहीं है । इसलिए भारतीय संविधान में देश की चुनिंदा भाषाओं को संविधान की आठवीं अनुसूची में रखा है । शुरु में इनकी संख्या 16 थी , जो आज बढ़ कर 22 हो गई हैं । ये सब भाषाएँ भारत की अधिकृत भाषाएँ हैं, जिनमें भारत देश की सरकारों का काम होता है । भारतीय मुद्रा नोट पर 16 भाषाओं में नोट का मूल्य अंकित रहता है और भारत सरकार इन सभी भाषाओं के विकास के लिए संविधान अनुसा…

चमार राष्ट्रपति

लिंकन अमेरिका का राष्ट्रपति हुआ । उसका बाप एक गरीब चमार था । कौन सोचता था कि चमार के घर एक लड़का पैदा होगा, जो मुल्क में आगे खड़ा हो जाएगा ? अनेक-अनेक लोगों के मन को चोट पहुँची । एक चमार का लड़का राष्ट्रपति बन जाए । दूसरे जो धनी थे और सौभाग्यशाली घरों में पैदा हुए थे, वे पिछड़ रहे थे । जिस दिन सीनेट में पहला दिन लिंकन बोलने खड़ा हुआ, तो किसी एक प्रतिस्पर्धी ने, किसी महत्वाकांक्षी ने, जिसका क्रोध प्रबल रहा होगा, जो सह नहीं सका होगा, वह खड़ा हो गया । उसने कहा, "सुनों लिंकन, यह मत भूल जाना कि तुम राष्ट्रपति हो गए तो तुम एक चमार के लड़के नहीं हो । नशे में मत आ जाना । तुम्हारा बाप एक चमार था, यह खयाल रखना ।" सारे लोग हँसे, लोगों ने खिल्ली उड़ाई, लोगों को आनंद आया कि चमार का लड़का राष्ट्रपति हो गया था । चमार का लड़का कह कर उन्होंने उसकी प्रतिभा छीन ली ।फिर नीचे खड़ा कर दिया । लेकिन लिंकन की आँखें  खुशी के आँशुओं से भर गई । उसने हाथ जोड़ कर कहा कि मेरे स्वर्गीय पिता की तुमने स्मृति दिला दी, यह बहुत अच्छा किया । इस क्षण में मुझे खुद उनकी याद आनी चाहिए थी । लेकिन मैं तुमसे कहूँ, मैं…

षट्दर्शन

भारत का आस्तिक दर्शन न्याय, वैशेषिक, साख्य, योग, पूर्व मीमांसा और उत्तरमीमांसा (वेदांत)  में बाँटा गया है । इतिहास वेत्ता मानते हैं कि ई.पू. पाँचवीं शताब्दी से लेकर ई.पू. पहली शताब्दी तक इन दर्शनों का विकास हुआ और इन्होंने व्यवस्थित रूप प्राप्त कर लिया । ये दर्शन आस्तिक इन अर्थों में नहीं हैं कि ये ईश्वर के अस्तित्व में विश्वास रखते हैं, बल्कि इन अर्थों में आस्तिक हैं कि ये वेदों के प्रमाण में आस्था रखते हैं । पूर्व मीमांसा और उत्तर-मीमांसा तो वैदिक ग्रंथों पर आधारित हैं, जबकि न्याय, वैशेषिक, सांख्य और योग स्वतंत्र आधार रखते हैं ।
1. न्याय दर्शन :: इस दर्शन के प्रणेता गौतम ऋषि माने जाते हैं । जिन्होंने न्याय सूत्रों में इस दर्शन के सिद्धांतों का विवेचन किया है । इस दर्शन में बुद्धि को सर्वोच्च स्थान पर रखा गया । इस दर्शन का अभिमत है कि बुद्धि के द्वारा सब कुछ जाना जा सकता है । 
2.वैशेषिक दर्शन :: कणाद इस दर्शन के प्रणेता हैं । परमाणुवाद वैशेषिक दर्शन की विशेषता है । परमाणु जगत के उपादान कारण माने जाते हैं । परमाणु एकत्रित व पृथक होते रहते हैं । यह कार्य अनंत काल से चला अआ रहा है । अग्नि…