मंगलवार, 2 मार्च 2010

कुछ विचार

जब व्यक्ति किसी ओर के कहने में हो, तो उसे समझाने की भूल न करें ।

जो व्यक्ति दूसरों के बहकावे में आ जाते हैं, उनमें आत्म विश्वास की कमी और निर्णय लेने की क्षमता नहीं होती ।

स्वीकार-भाव विधायक है; जो होता है वह रास्ते का रोड़ा नहीं बल्कि तुमसे सर्वश्रेष्ठ निकालने का एक माध्यम भर होता है ।

4 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. जब व्यक्ति किसी ओर के कहने में हो, तो उसे समझाने की भूल न करें ।


    kyaa baat kahi hai....!!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. मनोज भाई ! अपनी मर्ज़ी से कहां सफर मे हम है, रुख हवाओ का जिधर है उधर के हम हैं.

    उत्तर देंहटाएं