सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

षट्दर्शन

भारत का आस्तिक दर्शन न्याय, वैशेषिक, साख्य, योग, पूर्व मीमांसा और उत्तरमीमांसा (वेदांत)  में बाँटा गया है । इतिहास वेत्ता मानते हैं कि ई.पू. पाँचवीं शताब्दी से लेकर ई.पू. पहली शताब्दी तक इन दर्शनों का विकास हुआ और इन्होंने व्यवस्थित रूप प्राप्त कर लिया । ये दर्शन आस्तिक इन अर्थों में नहीं हैं कि ये ईश्वर के अस्तित्व में विश्वास रखते हैं, बल्कि इन अर्थों में आस्तिक हैं कि ये वेदों के प्रमाण में आस्था रखते हैं । पूर्व मीमांसा और उत्तर-मीमांसा तो वैदिक ग्रंथों पर आधारित हैं, जबकि न्याय, वैशेषिक, सांख्य और योग स्वतंत्र आधार रखते हैं ।

1. न्याय दर्शन :: इस दर्शन के प्रणेता गौतम ऋषि माने जाते हैं । जिन्होंने न्याय सूत्रों में इस दर्शन के सिद्धांतों का विवेचन किया है । इस दर्शन में बुद्धि को सर्वोच्च स्थान पर रखा गया । इस दर्शन का अभिमत है कि बुद्धि के द्वारा सब कुछ जाना जा सकता है । 

2. वैशेषिक दर्शन :: कणाद इस दर्शन के प्रणेता हैं । परमाणुवाद वैशेषिक दर्शन की विशेषता है । परमाणु जगत के उपादान कारण माने जाते हैं । परमाणु एकत्रित व पृथक होते रहते हैं । यह कार्य अनंत काल से चला अआ रहा है । अग्नि व पृथ्वी के परमाणुओं द्वारा ईश्वर के ध्यान-मात्र से ब्रह्माण्ड उत्पन्न हो जाता है । 

3. सांख्य :: इस दर्शन के प्रणेता कपिल मुनि हैं । इस दर्शन में पच्चीस तत्व माने गए हैं , जिनमें पुरुष व प्रकृति मुख्य हैं । जब तक पुरुष प्रकृति से अपना पृथकत्व नहीं जान लेता तब तक संसार का नाटक चला करता है । 

4. योग :: इस दर्शन के प्रणेता पतंजलि मुनि माने जाते हैं । योग में चित्त-वृत्तियों के निरोध पर बल है । चित्त वृत्ति के निरोध के लिए अष्टांग योग की साधना आवश्यक है ।

5. पूर्व मींमासा :: इसके प्रणेता जैमिनि मुनि हैं । इसे कर्म मीमांसा भी कहते हैं, क्योंकि इसका संबंध कर्मकांड से है । इसके अनुसार नित्य यज्ञादि करने से ही सच्ची मुक्ति प्राप्त हो सकती है । 

6. उत्तर मीमांसा (वेदांत) :: इसके प्रणेता बादरायण या व्यास मुनि माने जाते हैं । इस दर्शन के अनुसार प्रमाण दो हैं : श्रुति (प्रत्यक्ष) व स्मृति (अनुमान) । इस जगत् में ब्रह्म ही सत्य है । पुरुष व प्रकृति उसी के दो परिवर्तित स्वरूप हैं । यह संसार ब्रह्म के संकल्प का परिणाम है ।  यह उसकी लीला है ।  

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

चमार राष्ट्रपति

लिंकन अमेरिका का राष्ट्रपति हुआ । उसका बाप एक गरीब चमार था । कौन सोचता था कि चमार के घर एक लड़का पैदा होगा, जो मुल्क में आगे खड़ा हो जाएगा ? अनेक-अनेक लोगों के मन को चोट पहुँची । एक चमार का लड़का राष्ट्रपति बन जाए । दूसरे जो धनी थे और सौभाग्यशाली घरों में पैदा हुए थे, वे पिछड़ रहे थे । जिस दिन सीनेट में पहला दिन लिंकन बोलने खड़ा हुआ, तो किसी एक प्रतिस्पर्धी ने, किसी महत्वाकांक्षी ने, जिसका क्रोध प्रबल रहा होगा, जो सह नहीं सका होगा, वह खड़ा हो गया । उसने कहा, "सुनों लिंकन, यह मत भूल जाना कि तुम राष्ट्रपति हो गए तो तुम एक चमार के लड़के नहीं हो । नशे में मत आ जाना । तुम्हारा बाप एक चमार था, यह खयाल रखना ।" सारे लोग हँसे, लोगों ने खिल्ली उड़ाई, लोगों को आनंद आया कि चमार का लड़का राष्ट्रपति हो गया था । चमार का लड़का कह कर उन्होंने उसकी प्रतिभा छीन ली ।फिर नीचे खड़ा कर दिया । लेकिन लिंकन की आँखें  खुशी के आँशुओं से भर गई । उसने हाथ जोड़ कर कहा कि मेरे स्वर्गीय पिता की तुमने स्मृति दिला दी, यह बहुत अच्छा किया । इस क्षण में मुझे खुद उनकी याद आनी चाहिए थी । लेकिन मैं तुमसे कहूँ, मैं…

राष्ट्रभाषा, राजभाषा या संपर्कभाषा हिंदी

आज हिंदी को बहुत से लोग राष्ट्रभाषा के रूप में देखते हैं । कुछ इसे राजभाषा के रूप में प्रतिष्ठित देखना चाहते हैं । जबकि कुछ का मानना है कि हिंदी संपर्क भाषा के रूप में विकसित हो रही है । आइए हम हिंदी के इन विभिन्न रूपों को विधिवत समझ लें, ताकि हमारे मन-मस्तिष्क में स्पष्टता आ जाए ।
राष्ट्रभाषा से अभिप्राय: है किसी राष्ट्र की सर्वमान्य भाषा । क्या हिंदी भारत की राष्ट्रभाषा है ? यद्यपि हिंदी का व्यवहार संपूर्ण भारतवर्ष में होता है,लेकिन हिंदी भाषा को भारतीय संविधान में राष्ट्रभाषा नहीं कहा गया है । चूँकि भारतवर्ष सांस्कृतिक, भौगोलिक और भाषाई दृष्टि से विविधताओं का देश है । इस राष्ट्र में किसी एक भाषा का बहुमत से सर्वमान्य होना निश्चित नहीं है । इसलिए भारतीय संविधान में देश की चुनिंदा भाषाओं को संविधान की आठवीं अनुसूची में रखा है । शुरु में इनकी संख्या 16 थी , जो आज बढ़ कर 22 हो गई हैं । ये सब भाषाएँ भारत की अधिकृत भाषाएँ हैं, जिनमें भारत देश की सरकारों का काम होता है । भारतीय मुद्रा नोट पर 16 भाषाओं में नोट का मूल्य अंकित रहता है और भारत सरकार इन सभी भाषाओं के विकास के लिए संविधान अनुसा…

मेरी सेवानिवृत्ति

एक दिन मैं भी
ऐसे ही सेवानिवृत्त हो
कर
जाउंगा कार्यालय से

लोग अनमने मन से
मुझे भी कुछ हार पहनाएंगे
थोड़े मेरी प्रशंसा में
वे शब्द कहेंगे
जिनमें न रस होगा
न ताज़गी
और फिर खाने-पीने
का दौर शुरु हो जाएगा

तब मैं घर लौट आऊंगा
और लोग धीरे-धीरे
मुझे भूल जाएंगें
कार्यालय वैसे ही चलता
रहेगा
जैसे आज चलता है
बस मैं न रहूंगा
न मेरे हस्ताक्षर होंगे
0
0
0
होगा एक विराट शून्य
जिसमें धीरे-धीरे
सब समा जाएगा
और अस्तित्व अपनी
एक महायात्रा पूरी
कर चुका होगा