सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

क्या दार्शनिक होना बुरा है ?

क्या दार्शनिक होना बुरा है ? क्या ज्ञान के प्रति प्रेम होना स्वाभाविक नहीं है ? क्या ज्ञान के प्रति पागलपन की हद तक जुनून होना समाज के लिए घातक है ? क्या ज्ञान के प्रति जिज्ञासु होना बुरा है ? मैं जानता हूँ कि आप इस बहस में नहीं पड़ना चाहेंगे । फिर भी मैं आप से ये प्रश्न पूछ रहा हूँ , क्योंकि मैं जानता हूँ कि हर व्यक्ति के मन मस्तिष्क में ज्ञान के प्रति अनुराग रहता है, जब तक कि उसकी संवेदनशीलता मर नहीं जाती । आज की अति भौतिकतावादी संस्कृति में भोग ही मुख्य उद्देश्य हो गया है, जिसके चलते रुपए-पैसे की अहमीयत आदमी के लिए मुख्य और ज्ञान गौण हो गया है । शायद ज्ञान उसकी प्राथमिकताओं में रहा ही नहीं । मैं इस पोस्ट का अंत हिगेल के इस वचन से करना चाहूँगा कि बहुधा दार्शनिक अपने विचारों में खोये रहने के कारण चलते समय गड्डे में गिर जाते हैं, पर इसका कारण यह नहीं है कि उनके पास दृष्टि नहीं है, बल्कि उनकी दृष्टि भूमि के बजाए आकाश में जमी हुई है । उनकी यह मूर्खता उन व्यक्तियों से तो बेहतर ही है जो कभी आकाश की ओर देखने का साहस ही नहीं करते । मैं कहूँगा कि आप ज्ञान के लिए इतने पागल तो मत बने कि चलते समय गड्डे में गिर जाए, पर साथ ही यह भी कहूँगा कि अपने भीतर की उस संवेदना को न मरने दीजिए जो ज्ञान के लिए पिपासु है और जिसकी भूख और प्यास केवल धन,पद और प्रतिष्ठा से नहीं मिटती, बल्कि वह तो चीजों को उन्हें वैसे ही देखने से मिटती है, जैसी कि वे हैं । अपनी दृष्टि को स्वच्छ रखिए, उस पर किसी प्रकार के विश्वास और पूर्वाग्रह का बोझ न पड़ने दें ।

टिप्पणियाँ

  1. एक बड़ा ही अच्छा लेख छापा था नदियों के प्रदूषण पर और सबसे आश्चर्य की बात तो यह कही गई थी उस लेख में कि सभी प्रमुख नदियों पर इतने बाँध बाँध दिए गए हैं कि जिसे हम गंगा कहते हैं वह वास्तव में या तो प्रदूषित जल है या फिर उन सहायक नदियों का जल जो उसमें मिलती हैं.. वैसे ही ज्ञान की गंगा पर हमने परीक्षा और नौकरी, धन और पद के इतने बाँध बाँध दिए हैं कि ज्ञान का गंगा जल हमसे दूर होता चला जा रहा है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. roj kee dincharya me vyast manas har pal anubhavo ko kai roopo me sanjota rahta hai interaction bhee bahut madad karta hai vyvharikta bahut kuch sikha detee hai insan ko........aisa mera manna hai.........kaan aur aankhe hamare sahayak hai..........
    aisa mera manna hai.........
    hamesha kee tarah ek sunder lekh .

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

चमार राष्ट्रपति

लिंकन अमेरिका का राष्ट्रपति हुआ । उसका बाप एक गरीब चमार था । कौन सोचता था कि चमार के घर एक लड़का पैदा होगा, जो मुल्क में आगे खड़ा हो जाएगा ? अनेक-अनेक लोगों के मन को चोट पहुँची । एक चमार का लड़का राष्ट्रपति बन जाए । दूसरे जो धनी थे और सौभाग्यशाली घरों में पैदा हुए थे, वे पिछड़ रहे थे । जिस दिन सीनेट में पहला दिन लिंकन बोलने खड़ा हुआ, तो किसी एक प्रतिस्पर्धी ने, किसी महत्वाकांक्षी ने, जिसका क्रोध प्रबल रहा होगा, जो सह नहीं सका होगा, वह खड़ा हो गया । उसने कहा, "सुनों लिंकन, यह मत भूल जाना कि तुम राष्ट्रपति हो गए तो तुम एक चमार के लड़के नहीं हो । नशे में मत आ जाना । तुम्हारा बाप एक चमार था, यह खयाल रखना ।" सारे लोग हँसे, लोगों ने खिल्ली उड़ाई, लोगों को आनंद आया कि चमार का लड़का राष्ट्रपति हो गया था । चमार का लड़का कह कर उन्होंने उसकी प्रतिभा छीन ली ।फिर नीचे खड़ा कर दिया । लेकिन लिंकन की आँखें  खुशी के आँशुओं से भर गई । उसने हाथ जोड़ कर कहा कि मेरे स्वर्गीय पिता की तुमने स्मृति दिला दी, यह बहुत अच्छा किया । इस क्षण में मुझे खुद उनकी याद आनी चाहिए थी । लेकिन मैं तुमसे कहूँ, मैं…

राष्ट्रभाषा, राजभाषा या संपर्कभाषा हिंदी

आज हिंदी को बहुत से लोग राष्ट्रभाषा के रूप में देखते हैं । कुछ इसे राजभाषा के रूप में प्रतिष्ठित देखना चाहते हैं । जबकि कुछ का मानना है कि हिंदी संपर्क भाषा के रूप में विकसित हो रही है । आइए हम हिंदी के इन विभिन्न रूपों को विधिवत समझ लें, ताकि हमारे मन-मस्तिष्क में स्पष्टता आ जाए ।
राष्ट्रभाषा से अभिप्राय: है किसी राष्ट्र की सर्वमान्य भाषा । क्या हिंदी भारत की राष्ट्रभाषा है ? यद्यपि हिंदी का व्यवहार संपूर्ण भारतवर्ष में होता है,लेकिन हिंदी भाषा को भारतीय संविधान में राष्ट्रभाषा नहीं कहा गया है । चूँकि भारतवर्ष सांस्कृतिक, भौगोलिक और भाषाई दृष्टि से विविधताओं का देश है । इस राष्ट्र में किसी एक भाषा का बहुमत से सर्वमान्य होना निश्चित नहीं है । इसलिए भारतीय संविधान में देश की चुनिंदा भाषाओं को संविधान की आठवीं अनुसूची में रखा है । शुरु में इनकी संख्या 16 थी , जो आज बढ़ कर 22 हो गई हैं । ये सब भाषाएँ भारत की अधिकृत भाषाएँ हैं, जिनमें भारत देश की सरकारों का काम होता है । भारतीय मुद्रा नोट पर 16 भाषाओं में नोट का मूल्य अंकित रहता है और भारत सरकार इन सभी भाषाओं के विकास के लिए संविधान अनुसा…

मेरी सेवानिवृत्ति

एक दिन मैं भी
ऐसे ही सेवानिवृत्त हो
कर
जाउंगा कार्यालय से

लोग अनमने मन से
मुझे भी कुछ हार पहनाएंगे
थोड़े मेरी प्रशंसा में
वे शब्द कहेंगे
जिनमें न रस होगा
न ताज़गी
और फिर खाने-पीने
का दौर शुरु हो जाएगा

तब मैं घर लौट आऊंगा
और लोग धीरे-धीरे
मुझे भूल जाएंगें
कार्यालय वैसे ही चलता
रहेगा
जैसे आज चलता है
बस मैं न रहूंगा
न मेरे हस्ताक्षर होंगे
0
0
0
होगा एक विराट शून्य
जिसमें धीरे-धीरे
सब समा जाएगा
और अस्तित्व अपनी
एक महायात्रा पूरी
कर चुका होगा