सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

दोस्ती और शेयरिंग

आज एक दृष्टांत प्रस्तुत कर रहा हूँ; दोस्ती और दोस्ती में अपेक्षाओं का। दोस्त अक्सर परस्पर एक-दूसरे के साथ अपने विचारों का आदान-प्रदान करते हैं। एक दूसरे के सुख-दुख में शामिल होते हैं और इन्हें आपस में बांट कर सांझा करते हैं। लेकिन दोस्ती में क्या जरुरी है कि दोस्त की हर अपेक्षा को पूरा किया जाए??? 

एक बार मेरे किसी मित्र ने ई-मेल मेल से मुझे कुछ फोटोग्राफ़ भेजे। उन्होंने जो चित्र मुझे भेजे,वे तकनीकी कारणों से मेरी मेल पर खुले नहीं। मैंने उन्हें,प्रत्युत्तर भेजा कि आपने जो फोटोग्राफ़ भेजे थे,वे खुल नहीं पा रहे हैं? कृपया इन्हें पुन:भेज दें। मित्र ने मुझ से मेरे ई-मेल का पॉस-वर्ड पूछा। मैंने उन्हें पासवर्ड नहीं दिया।इस बात को लेकर मित्र मुझ से नाराज़ हो गए। और उन्हें लगा कि मैं उन्हें मित्र नहीं मानता। मित्र मानता तो पॉसवर्ड देता? इसके बाद हमारे बीच में दूरियाँ बढ़ गई,जिन्हें मैं चाह कर भी खतम नहीं कर सका। क्या किसी मित्र को अपनी इस तरह की निजी और गोपनीय बातें भी बतानी चाहिएं??? 

कृपया पाठक गण अपनी राय व्यक्त कर मेरी समस्या का समाधान करें।

टिप्पणियाँ

  1. इस परिस्थिति में मैं होता तो पासवर्ड नहीं देता
    .......लेकिन हाँ ......सबसे जरूरी बात...
    मैं इस बात के लिए मना करते हुए थोड़ी सावधानी बरतने का प्रयास जरूर करता
    [वैसे इस बात से किसी का आप से नाराज होना मुझे समझ नहीं आया ]

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक सच्चे मित्र को अपने मित्र की निजता और उससे जुड़े निर्णयों का स्वागत करना चाहिए [चाहें पहली नजर में वो निर्णय मन के अनुकूल ना हों ]

    मुझे नहीं लगता की आप को इस बात के लिए परेशान होना चाहिए , सिर्फ इतना ही विश्लेषण करें की मना करते वक्त परिस्थिति को कैसे संभालना है

    उत्तर देंहटाएं
  3. पहली बात ...किसी भी मित्र को पासवर्ड मांगना ही नहीं चाहिए ...
    दूसरी इसमें नाराज़ होने की कोई वजह नहीं ...
    मित्र आपकी जगह खुद को रखकर सोचे
    तो समझ सकते हैं ....

    उत्तर देंहटाएं
  4. मैं कदापि पासवर्ड नहीं देता ..आज वह पासवर्ड मांग रहा है कल कोई और महत्वपूर्ण चीज मांग लेगा ..इसलिए आपने सही किया .....!

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपने बहुत गलत किया. आपको तुरत अपने मित्र का पासवर्ड पूछना चाहिए था ताकि आप उसकी मेल में ही फोटो देख लेते. इससे नज़दीकियाँ बढ़ जातीं :)) परंतु आप ने अपना पासवर्ड न देकर बहुत अच्छा किया. ऐसे नासमझ मित्र (?) से दूरी दुखदायी नहीं होती.

    उत्तर देंहटाएं
  6. ओशो कहते है कि प्रेम/मित्रता में, दूसरे का अतिक्रमण उस पर विजय सरीखा न होकर,समर्पण सरीखा होना चाहिये !

    आप दोनों मित्रों के लिये उपरोक्त कथन पर चिन्तन आवश्यक है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. chhoti chhoti baate agar badi ho jaati to mushkil ban jaati hai ,jab samjh nahi paate nibhana bhi mushkil ho jaata hai ,shayad koi rasta nikal aaye ,swatantrata divas ki badhai .

    उत्तर देंहटाएं
  8. मित्रता का आधार ही गर अपेक्षा हो तो उपेक्षा का भय हमेशा बना रहता है.. क्योंकि अपेक्षाएं हमेशा गीली ज़मीन की तरह होती हैं जो परीक्षाओं का बोझ सहन नहीं कर पातीं और परिणाम उपेक्षा ही होता है...
    सर्वप्रथम तो पासवर्ड की मांग ही व्यर्थ थी, उसका उत्तर तो ना होना ही था..

    उत्तर देंहटाएं
  9. किसी का पासवर्ड माँगना धृष्टता है और ऊपर से नाराज़ हो जाना बचपना है। आपने उचित निर्णय लिया। मित्र के नाराज़ होने का दुःख न करें । वह समय के साथ अपनी गलती realize करेंगे और स्वयं आपके नज़दीक लौटेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  10. गर पासवर्ड मांगने वाले ने हक से माँगा है..
    तो जायज है..

    अगर आपका उस पर इतबार नहीं
    तो दोस्ती ही नाजायज है..

    अगर वास्तव में दोस्त है तो कुछ भी नहीं छिपता ... मुआ पास्वोर्ड क्या चीज़ है .

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

चमार राष्ट्रपति

लिंकन अमेरिका का राष्ट्रपति हुआ । उसका बाप एक गरीब चमार था । कौन सोचता था कि चमार के घर एक लड़का पैदा होगा, जो मुल्क में आगे खड़ा हो जाएगा ? अनेक-अनेक लोगों के मन को चोट पहुँची । एक चमार का लड़का राष्ट्रपति बन जाए । दूसरे जो धनी थे और सौभाग्यशाली घरों में पैदा हुए थे, वे पिछड़ रहे थे । जिस दिन सीनेट में पहला दिन लिंकन बोलने खड़ा हुआ, तो किसी एक प्रतिस्पर्धी ने, किसी महत्वाकांक्षी ने, जिसका क्रोध प्रबल रहा होगा, जो सह नहीं सका होगा, वह खड़ा हो गया । उसने कहा, "सुनों लिंकन, यह मत भूल जाना कि तुम राष्ट्रपति हो गए तो तुम एक चमार के लड़के नहीं हो । नशे में मत आ जाना । तुम्हारा बाप एक चमार था, यह खयाल रखना ।" सारे लोग हँसे, लोगों ने खिल्ली उड़ाई, लोगों को आनंद आया कि चमार का लड़का राष्ट्रपति हो गया था । चमार का लड़का कह कर उन्होंने उसकी प्रतिभा छीन ली ।फिर नीचे खड़ा कर दिया । लेकिन लिंकन की आँखें  खुशी के आँशुओं से भर गई । उसने हाथ जोड़ कर कहा कि मेरे स्वर्गीय पिता की तुमने स्मृति दिला दी, यह बहुत अच्छा किया । इस क्षण में मुझे खुद उनकी याद आनी चाहिए थी । लेकिन मैं तुमसे कहूँ, मैं…

राष्ट्रभाषा, राजभाषा या संपर्कभाषा हिंदी

आज हिंदी को बहुत से लोग राष्ट्रभाषा के रूप में देखते हैं । कुछ इसे राजभाषा के रूप में प्रतिष्ठित देखना चाहते हैं । जबकि कुछ का मानना है कि हिंदी संपर्क भाषा के रूप में विकसित हो रही है । आइए हम हिंदी के इन विभिन्न रूपों को विधिवत समझ लें, ताकि हमारे मन-मस्तिष्क में स्पष्टता आ जाए ।
राष्ट्रभाषा से अभिप्राय: है किसी राष्ट्र की सर्वमान्य भाषा । क्या हिंदी भारत की राष्ट्रभाषा है ? यद्यपि हिंदी का व्यवहार संपूर्ण भारतवर्ष में होता है,लेकिन हिंदी भाषा को भारतीय संविधान में राष्ट्रभाषा नहीं कहा गया है । चूँकि भारतवर्ष सांस्कृतिक, भौगोलिक और भाषाई दृष्टि से विविधताओं का देश है । इस राष्ट्र में किसी एक भाषा का बहुमत से सर्वमान्य होना निश्चित नहीं है । इसलिए भारतीय संविधान में देश की चुनिंदा भाषाओं को संविधान की आठवीं अनुसूची में रखा है । शुरु में इनकी संख्या 16 थी , जो आज बढ़ कर 22 हो गई हैं । ये सब भाषाएँ भारत की अधिकृत भाषाएँ हैं, जिनमें भारत देश की सरकारों का काम होता है । भारतीय मुद्रा नोट पर 16 भाषाओं में नोट का मूल्य अंकित रहता है और भारत सरकार इन सभी भाषाओं के विकास के लिए संविधान अनुसा…

मेरी सेवानिवृत्ति

एक दिन मैं भी
ऐसे ही सेवानिवृत्त हो
कर
जाउंगा कार्यालय से

लोग अनमने मन से
मुझे भी कुछ हार पहनाएंगे
थोड़े मेरी प्रशंसा में
वे शब्द कहेंगे
जिनमें न रस होगा
न ताज़गी
और फिर खाने-पीने
का दौर शुरु हो जाएगा

तब मैं घर लौट आऊंगा
और लोग धीरे-धीरे
मुझे भूल जाएंगें
कार्यालय वैसे ही चलता
रहेगा
जैसे आज चलता है
बस मैं न रहूंगा
न मेरे हस्ताक्षर होंगे
0
0
0
होगा एक विराट शून्य
जिसमें धीरे-धीरे
सब समा जाएगा
और अस्तित्व अपनी
एक महायात्रा पूरी
कर चुका होगा