सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आत्मा और परमात्मा : एक या अनेक

सारे मनुष्य का अनुभव शरीर का अनुभव है, सारे योगी का अनुभव सूक्ष्म शरीर का अनुभव है, परम योगी का अनुभव परमात्मा का अनुभव है । परमात्मा एक है, सूक्ष्म शरीर अनंत हैं, स्थूल शरीर अनंत हैं । वह जो सूक्ष्म है, वह नए स्थूल शरीर ग्रहण करता है । हम यहाँ देख रहें हैं कि बहुत से बल्ब जले हुए हैं । विद्युत तो एक है, विद्युत बहुत नहीं है । वह ऊर्जा, वह शक्ति, वह एनर्जी एक है ; लेकिन दो अलग बल्बों में प्रकट हो रही है । बल्ब का शरीर अलग अलग है, उसकी आत्मा एक है । हमारे भीतर से जो चेतना झाँक रही है, वह चेतना एक है, लेकिन उपकरण है सूक्ष्म देह, दूसरा उपकरण है स्थूल देह । हमारा अनुभव स्थूल देह तक ही रुक जाता है । यह जो स्थूल देह तक रुक गया अनुभव है, यही मनुष्य के जीवन का सारा अंधकार और दुख है । लेकिन कुछ लोग सूक्ष्म शरीर पर भी रुक सकते हैं । जो लोग सूक्ष्म शरीर पर रुक जाते हैं, वे ऐसा कहेंगे कि आत्माएँ अनंत हैं ।॥(योगी)॥ लेकिन जो सूक्ष्म शरीर से भी आगे चले जाते हैं, वे कहेंगे परमात्मा एक है, आत्मा एक है , ब्रह्म एक है ।।(परम योगी)॥

मेरी इन दोनों बातों में कोई विरोध नहीं है । मैंने जो आत्मा के प्रवेश के लिए कहा उसका अर्थ है वह आत्मा जिसका सूक्ष्म शरीर गिर नहीं गया है । इसलिए हम कहते हैं कि जो आत्मा परम मुक्ति को उपलब्ध हो जाती है, उसका जन्म-मरण बंद हो जाता है । आत्मा का तो कोई जन्म-मरण है ही नहीं, वह न तो कभी जन्मी है और न कभी मरेगी । वह जो सूक्ष्म शरीर है वह भी समाप्त हो जाने पर कोई जन्म-मरण नहीं रह जाता है क्योंकि सूक्ष्म शरीर ही कारण बनता है नए जन्मों का । सूक्ष्म शरीर का अर्थ है हमारे विचार, हमारी कामनाएँ, हमारी वासनाएँ, हमारी इच्छाएँ, हमारे अनुभव, हमारे ज्ञान इन सबका जो संग्रहीभूत बीज है वह हमारा सूक्ष्म शरीर है , वही हमें आगे की यात्रा पर ले जाता है । लेकिन जिस मनुष्य के सारे विचार नष्ट हो गए, जिस मनुष्य की सारी वासनाएँ क्षीण हो गई, जिस मनुष्य की सारी इच्छाएँ विलीन हो गई, जिसके भीतर अब कोई भी इच्छा शेष न रही, उस मनुष्य को जाने के लिए कोई जगह नहीं बचती है, जाने का कोई कारण नहीं बचता । जन्म की कोई वजह नहीं रह जाती । 

राम कृष्ण के जीवन में एक अद्-भुत घटना है । रामकृष्ण को जो लोग बहुत निकट से परमहंस जानते थे उनको यह बात जानकर अत्यंत कठिनाई होती थी कि रामकृष्ण जैसा परमहंस, रामकृष्ण जैसा समाधिस्थ व्यक्ति भोजन के संबंध में बहुत लोलुप था । रामकृष्ण भोजन के लिए बहुत आतुर होते थे और भोजन के लिए इतनी प्रतीक्षा करते थे कि कई बार उठकर चौका में पहुँच जाते और पूछते शारदा को, बहुत देर हो गई, क्या बन रहा है आज ? ब्रह्म की चर्चा चलती और बीच में ब्रह्म चर्चा छोड़कर पहुँच जाते चौके में और पूछने लगते, क्या बना है आज और खोजने लगते । शारदा ने उन्हें कहा, आप क्या करते हैं ? लोग क्या सोचते होंगे कि ब्रह्म चर्चा छोड़कर एकदम अन्न की चर्चा पर आप उतर आते हैं  । रामकृष्ण हँसते और चुप रह जाते । उनके शिष्यों ने भी बहुत बार कहा कि इससे बहुत बदनामी होती है । लोग कहते हैं कि ऐसा व्यक्ति क्या  ज्ञान को उपलब्ध हुआ होगा, जिसकी अभी रसना, जिसकी अभी जीभ इतनी लालायित होती है  भोजन के लिए । एक दिन बहुत कुछ भला-बुरा कहा रामकृष्ण की पत्नी शारदा ने, तो रामकृष्ण ने कहा कि तुझे पता नहीं, जिस दिन मैं भोजन के प्रति अरुचि प्रकट करुँ, तू समझ लेना कि अब मेरे जीवन की यात्रा केवल तीन दिन और शेष बच गई । बस तीन दिन से ज्यादा फिर मैं बचूँगा नहीं । जिस दिन भोजन के प्रति मेरी उपेक्षा हो, तू समझ लेना कि तीन दिन बाद मेरी मौत आ जाएगी ।  शारदा कहने लगी इसका अर्थ ? रामकृष्ण कहने लगे, मेरी सारी वासनाएँ क्षीण हो गई , मेरी सारी इच्छाएँ विलीन हो गई, मेरे सारे विचार नष्ट हो गए, लेकिन जगत के हित के लिए मैं रुका रहना चाहता हूँ । मैं एक वासना को जबरदस्ती पकड़े हुए हूँ ; जैसे किसी नाव की सारी जंजीरे खुल गई हों और एक जंजीर से नाव अटकी रह गई हो और वह जंजीर भी टूट जाए तो नाव अपनी अनंत यात्रा पर निकल जाएगी । मैं चेष्टा करके रुका हुआ हूँ । किसी की समझ में शायद यह बात नहीं आई । लेकिन रामकृष्ण की मृत्यु के तीन दिन पहले शारदा थाली लगाकर उनके कमरे में गयी । वे बैठे हुए देख रहे थे । उन्होंने थाली देखकर आँखें बंद कर ली, और पीठ कर ली शारदा की तरफ । उसे एकदम से ख्याल आया कि उन्होंने कहा था कि तीन दिन बाद मौत हो जाएगी, जिस दिन भोजन के प्रति अरुचि करुँ । उसके हाथ से थाली गिर गई और पीट-पीट कर रोने लगी । रामकृष्ण ने कहा, रोओ मत । तुम जो कहती थी वह बात अब पूरी हो गई । ठीक तीन दिन बाद रामकृष्ण की मृत्यु हो गई । एक छोटी सी वासना को प्रयास करके वे रोके हुए थे। उतनी छोटी सी वासना जीवन यात्रा का आधार बनी थी । वह वासना भी चली गई तो जीवन यात्रा का सारा आधार समाप्त हो गया । जिसे तिर्थंकर कहते हैं, जिसे हम  ईश्वर पुत्र कहते हैं, जिसे हम अवतार कहते हैं, उनकी भी एक वासना शेष रह गई होती है और उस वासना को वे शेष रखना चाहते हैं करुणा के हित, मंगल के हित, सर्वमंगल के हित, सर्वलोक के हित । जिस दिन वह वासना भी क्षीण हो जाती है उसी दिन जीवन की यह यात्रा समाप्त और अनंत की अंतहीन यात्रा शुरु होती है । उसके बाद जन्म नहीं, उसके बाद मरण नहीं है , उसके बाद न एक है, न अनेक है । उसके बाद तो जो शेष रह जाता है उसे संख्या में गिनने का कोई उपाय नहीं । इसलिए जो जानते हैं वे यह भी नहीं कहते  कि ब्रह्म एक है, परमात्मा एक है । क्योंकि एक कहना व्यर्थ है जबकि दो की गिनती न बनती हो । एक कहने का कोई अर्थ नहीं जब कि दो और तीन नहीं कहे जा सकते हों । एक कहना तभी सार्थक है जब तक कि दो, तीन,चार भी सार्थक होते हैं । संख्याओं के बीच में ही एक की सार्थकता है । इसलिए जो जानते हैं वे यह भी नहीं कहते कि ब्रह्म एक है, वे कहते हैं ब्रह्म अद्वैत है, दो नहीं है, बहुत अद्-भुत बात कहते हैं । वे कहते हैं परमात्मा दो नहीं है । एक कहकर भी हम संख्या में गिनने की कोशिश करते हैं, वह गलत है । लेकिन उस तक पहुँचना दूर है, अभी तो हम स्थूल में खड़ें हैं, उस शरीर पर जो अनंत है, अनेक है । उस शरीर के भीतर हम प्रवेश करेंगे तो एक और शरीर उपलब्ध होगा, सूक्ष्म शरीर । उस शरीर को भी पार करेंगे तो वह उपलब्ध होगा जो शरीर नहीं है, अशरीर है, जो आत्मा है । 

 (शो की पुस्तक "घाट भुलाना बाट बिनु"  के जीवन और मृत्यु प्रवचन से उद्धृत एक प्रवचनांश )

टिप्पणियाँ

  1. बहुत सुंदर उदाहरण दिया है इस पोस्ट में। महापुरुष जो भी करते हैं, उसके पीछे कुछ वजह होती है जिसे हम लोग अपनी अज्ञानता या अविश्वास के कारण नहीं समझ पाते।

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक जटिल विषय और उसपर ज्ञान का अभाव... यदि टिप्पणी में कोई ऊँच नीच हो गया तो अर्थ का अनर्थ हो सकता है... अतः मनीषियों के विषय पर मनीषियों के विचार पड्जने को मिलें तो धन्य समझूँगा स्वयम् को!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. उम्दा पोस्ट.........
    स्थूल देह तक रुक जाने का अनुभव ही..... मनुष्य के जीवन का सारा अंधकार और दुख है ....
    सही कहा ......

    उत्तर देंहटाएं
  4. स्वमं को समाज के आइने में देखने के आदी हम, अभी तो अपने स्थूल शरीर को भी ठीक से नहीं जानते, फिर सूक्ष्म शरीर का प्रत्यक्ष ज्ञान... आत्मा स्वरूप का अनुभव .....परमात्मा में विलय ...

    ओशों का प्रवचन बहुत मधुर है!

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपका अध्यात्मिक आलेख अच्छा लगा ।

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

चमार राष्ट्रपति

लिंकन अमेरिका का राष्ट्रपति हुआ । उसका बाप एक गरीब चमार था । कौन सोचता था कि चमार के घर एक लड़का पैदा होगा, जो मुल्क में आगे खड़ा हो जाएगा ? अनेक-अनेक लोगों के मन को चोट पहुँची । एक चमार का लड़का राष्ट्रपति बन जाए । दूसरे जो धनी थे और सौभाग्यशाली घरों में पैदा हुए थे, वे पिछड़ रहे थे । जिस दिन सीनेट में पहला दिन लिंकन बोलने खड़ा हुआ, तो किसी एक प्रतिस्पर्धी ने, किसी महत्वाकांक्षी ने, जिसका क्रोध प्रबल रहा होगा, जो सह नहीं सका होगा, वह खड़ा हो गया । उसने कहा, "सुनों लिंकन, यह मत भूल जाना कि तुम राष्ट्रपति हो गए तो तुम एक चमार के लड़के नहीं हो । नशे में मत आ जाना । तुम्हारा बाप एक चमार था, यह खयाल रखना ।" सारे लोग हँसे, लोगों ने खिल्ली उड़ाई, लोगों को आनंद आया कि चमार का लड़का राष्ट्रपति हो गया था । चमार का लड़का कह कर उन्होंने उसकी प्रतिभा छीन ली ।फिर नीचे खड़ा कर दिया । लेकिन लिंकन की आँखें  खुशी के आँशुओं से भर गई । उसने हाथ जोड़ कर कहा कि मेरे स्वर्गीय पिता की तुमने स्मृति दिला दी, यह बहुत अच्छा किया । इस क्षण में मुझे खुद उनकी याद आनी चाहिए थी । लेकिन मैं तुमसे कहूँ, मैं…

राष्ट्रभाषा, राजभाषा या संपर्कभाषा हिंदी

आज हिंदी को बहुत से लोग राष्ट्रभाषा के रूप में देखते हैं । कुछ इसे राजभाषा के रूप में प्रतिष्ठित देखना चाहते हैं । जबकि कुछ का मानना है कि हिंदी संपर्क भाषा के रूप में विकसित हो रही है । आइए हम हिंदी के इन विभिन्न रूपों को विधिवत समझ लें, ताकि हमारे मन-मस्तिष्क में स्पष्टता आ जाए ।
राष्ट्रभाषा से अभिप्राय: है किसी राष्ट्र की सर्वमान्य भाषा । क्या हिंदी भारत की राष्ट्रभाषा है ? यद्यपि हिंदी का व्यवहार संपूर्ण भारतवर्ष में होता है,लेकिन हिंदी भाषा को भारतीय संविधान में राष्ट्रभाषा नहीं कहा गया है । चूँकि भारतवर्ष सांस्कृतिक, भौगोलिक और भाषाई दृष्टि से विविधताओं का देश है । इस राष्ट्र में किसी एक भाषा का बहुमत से सर्वमान्य होना निश्चित नहीं है । इसलिए भारतीय संविधान में देश की चुनिंदा भाषाओं को संविधान की आठवीं अनुसूची में रखा है । शुरु में इनकी संख्या 16 थी , जो आज बढ़ कर 22 हो गई हैं । ये सब भाषाएँ भारत की अधिकृत भाषाएँ हैं, जिनमें भारत देश की सरकारों का काम होता है । भारतीय मुद्रा नोट पर 16 भाषाओं में नोट का मूल्य अंकित रहता है और भारत सरकार इन सभी भाषाओं के विकास के लिए संविधान अनुसा…

मेरी सेवानिवृत्ति

एक दिन मैं भी
ऐसे ही सेवानिवृत्त हो
कर
जाउंगा कार्यालय से

लोग अनमने मन से
मुझे भी कुछ हार पहनाएंगे
थोड़े मेरी प्रशंसा में
वे शब्द कहेंगे
जिनमें न रस होगा
न ताज़गी
और फिर खाने-पीने
का दौर शुरु हो जाएगा

तब मैं घर लौट आऊंगा
और लोग धीरे-धीरे
मुझे भूल जाएंगें
कार्यालय वैसे ही चलता
रहेगा
जैसे आज चलता है
बस मैं न रहूंगा
न मेरे हस्ताक्षर होंगे
0
0
0
होगा एक विराट शून्य
जिसमें धीरे-धीरे
सब समा जाएगा
और अस्तित्व अपनी
एक महायात्रा पूरी
कर चुका होगा