शनिवार, 24 जुलाई 2010

क्षणिकाएँ

दु:ख
सुख
से पार आनंद

इच्छा
मन
से है दु:ख


इच्छा
पूर्ति
से है सुख


मोह
शोक
से है बंधन

मोह
इच्छा
शोक  गए कटे बंधन

जिंदगी
खिलौना
फिर भी शोक 

7 टिप्‍पणियां:

  1. gagar me saagar ........
    nanhee paree aane walee hai.......
    Dr ne august 9th due date dee hai.........
    abhee prateeksha kee ghadiya chal rahee hai....
    aap sabkee shubhkamnae sath hai eeshvar kee krupaa se sab theek hee hoga.........

    उत्तर देंहटाएं
  2. अद्भुत दर्शन है मनोज बाबू! हमरे लिए त अमृत कण के समान! कृतार्थ हुए हम.

    उत्तर देंहटाएं
  3. इच्छा
    मन
    से है दु:ख
    इच्छा
    पूर्ति
    से है सुख.....
    हमने अपनी सोच का दायरा कितना छोटा बना डाला है...इच्छा पूरी हो गई तो खुश .....न पूरी हुई तो भगवान को बुरा-भला.....
    आप की कविता ने तो ज़िन्दगी के पूर्ण अर्थ निकाल डाले....
    बहुत खूब!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. टर्र टर्र टर्र
    फुर्र फुर्र फुर्र
    . . .

    मेरी पहली और आखिरी हाईकू!

    उत्तर देंहटाएं