मंगलवार, 27 जुलाई 2010

ओशो के चिर-स्मरणीय दस सूत्र

1. किसी की आज्ञा कभी मत मानों, जब तक कि वह स्वयं की ही आज्ञा न हो ।
2. जीवन के अतिरिक्त और कोई परमात्मा नहीं है ।
3. सत्य स्वयं में है, इसलिए उसे और कहीं मत खोजना ।
4. प्रेम प्रार्थना है ।
5. शून्य होना सत्य का द्वार है; शून्यता ही साधन है, साध्य है, सिद्धि है।
6. जीवन है, अभी और यहीं ।
7. जियो, जागे हुए ।
8. तैरो मत - बहो ।
9. मरो प्रतिपल ताकि प्रतिपल नए हो सको ।
10. खोजो मत; जो है - है; रुको और देखो ।

2 टिप्‍पणियां: