शुक्रवार, 14 जनवरी 2011

क्रोध का स्रोत

यामाओकु तेशु एक युवा झेन-साधक हुआ। साधक वह जरूर था, पर अधीर इतना कि कभी किसी एक गुरु के पास न रहता । एक बार वह शोकोकू आश्रम के झेन-गुरु दोकुओन के पास गया। 

अपना ज्ञान बघारते हुए यामाओका तेशु ने कहा, "मन,बुद्धि,चेतन,जगत आदि सब अस्तित्वहीन हैं । आभास मात्र। सत्य केवल शून्य है। और कुछ भी सत्य नहीं।कोई भ्रम नहीं।कोई महान नहीं,कोई अपूर्ण नहीं ...न किसी से कुछ लेना,न देना।"

दोकुओन आराम से हुक्का गुड़गुड़ाते रहे, कोई प्रतिक्रिया नहीं की। अचानक उन्होंने हुक्का उठाया और यामाओका के सिर पर दे मारा। चोट खाया हुआ यामाओका क्रोध से आग-बबूला हो गया। 

'अगर सबकुछ शून्य है', दोकुओन ने उससे पूछा, 'तो यह क्रोध कहाँ से आया?' 

5 टिप्‍पणियां:

  1. इस प्रश्न का उत्तर बड़ा अनिवार्य है और यह प्रश्न भी बड़ा जटिल है.. जो घर फूँके आपना वही जान पाया है इसका उत्तर!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. मनोज भारती जी को क्रोध क्यों नहीं आता. मैं इस सोच में पड़ गया हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह भई वाह !
    क्रोध न आए वो भी आज के जमाने नें ?

    उत्तर देंहटाएं
  4. कुछ प्रश्नों के उत्तर समय के गर्भ में हैं सदियों से .... ये भी ऐसा ही प्रश्न है ..

    उत्तर देंहटाएं
  5. ढेर सारे प्रश्नवाचक चिन्ह हैं... समझ नहीं आत अकी शुरूआत कहा से की जाए???

    उत्तर देंहटाएं