सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

ऋग्वेद

वैदिक संहिताओं में ऋग्वेद को सबसे प्राचीन स्वीकृत किया गया है।लोकमान्य तिलक ने ऋग्वेद का रचना काल 4000 ई.पू. से 6000ई.पू. के मध्य माना है।यद्यपि अन्य इतिहासकार और विद्वान इस मत से सहमत नहीं हैं, तथापि ऋग्वेद के प्राचीनतम ग्रंथ होने से सभी एकमत हैं।कतिपय विद्वानों ने ऋग्वेद को एक स्वतंत्र ग्रंथ न स्वीकार कर इसे विशालकाय ग्रंथ समूह माना है।इन विद्वानों के अनुसार ऋग्वेद किसी एक ऋषि की रचना न होकर कई ऋषियों द्वारा विभिन्न कालों में रची गई रचना है।

ग्वेद सूक्त वेद है। सूक्त का अर्थ है:उत्तम कथन।उत्तम कथन से युक्त मंत्रों के समूह को सूक्त कहते हैं।सूक्त को ऋक या ऋचा भी कहते हैं। ऋक का अर्थ है स्तुति योग्य मंत्र और वेद का अर्थ है ज्ञान।इस प्रकार ऋग्वेद का अर्थ हुआ-स्तुति योग्य मंत्रों (उक्तियों) का ज्ञान।ऋग्वेद की ऋचाओं में मुख्यत: देवताओं की स्तुतियाँ हैं।ऋषियों ने ज्ञान रूप में अपने चारों ओर जो दर्शन किया,उसे उन्होंने मंत्रबद्ध कर दिया।प्रकृति में अस्तित्व रखने वाली हर चीज उनके चिंतन का विषय रही।इसलिए देव-स्तुतियों के साथ-साथ लाभांश में सृष्टि के अनेक रहस्यों का उद्घाटन भी हो गया। 

ऋग्वेद की पाँच शाखाएँ मानी गई हैं : 1. शाकल 2.वाष्कल 3.आश्वलायन 4.सांख्यायन एवं 5.मांडूकायन।इन पाँचों शाखाओं में वर्तमान में पूर्णरूप से केवल शाकल शाखा ही उपलब्ध है। वैदिक वाङ्मय का इतिहास में पं भगवद्दत्त ने ऋग्वेद की 27 शाखाओं का परिचय दिया है।

विद्वानों के अनुसार ऋग्वेद के दो प्रकार के विभाग उपलब्ध हैं :- 
1.मंडल,अनुवाक और सूक्त । 
2.अष्टक,अध्याय और सूक्त । 
पहले विभाग के अनुसार ऋग्वेद दस खंडों में विभक्त है,जिसे मंडल कहा जाता है।मंडल में संग्रहीत मंत्र समूह को सूक्त तथा इन सूक्तों के खंडों को ऋचाएँ कहते हैं ।ऋग्वेद का यह विभाग ही महत्त्वपूर्ण और प्रचलित है।इसके अनुसार संपूर्ण ऋग्वेद में कुल 10 मंडल, 1028 सूक्त तथा 10552 मंत्र हैं।इसमें कुल 33 देवताओं से संबद्ध ऋचाएँ हैं।जिन्हें 33 कोटियों में परिगणित किया गया है।इन्हीं कोटियों को कालांतर में करोड़ के अर्थ में भ्रमपूर्ण अर्थ में मान लिया गया।जिसके चलते हिंदुओं के देवताओं की संख्या 33 करोड़ मानी जाती है, जो सत्य व तथ्य से सर्वथा परे है।इन ऋचाओं के संकलन के कारण ही इसे ऋग्वेद कहा गया।ऋग्वेद के दसों मंडलों में दूसरे एवं सातवें मंडल की ऋचाएँ सर्वाधिक प्राचीन हैं।जबकि पहला और दसवां मंडल,जिनमें सर्वाधिक सूक्त हैं, को बाद में जोड़ा गया है।

दूसरे विभाग के अनुसार ऋग्वेद में आठ अष्टक हैं, प्रत्येक अष्टक में 8 अध्याय हैं, इस प्रकार पूरे ऋग्वेद में 64 अध्याय हैं। 

विदित है कि वेदों के बाद ब्राह्मण ग्रंथों का स्थान है।इन ग्रंथों का उद्देश्य यज्ञ विधि और कर्म कांड को बतलाना है।ब्राह्मण ग्रंथों के पुन: तीन विभाग हैं : 1.ब्राह्मण 2.आरण्यक 3.उपनिषद। ऋग्वेद के दो ब्राह्मण ग्रंथ हैं : कौषीतकी और ऐतेरय।इन का परस्पर घनिष्ठ संबंध है।इन ब्राह्मण ग्रंथों में सोम और राजसूय यज्ञों का वर्णन है।

आरण्यक ग्रंथों में अधिकांशत: उपनिषदों के ही अंश संकलित हैं।ऋग्वेद के ऐतरेय और कौषीतकी दो आरण्यक हैं।ऐतरेय के पाँच ग्रंथ पाए जाते हैं,इनमें प्रत्येक को आरण्यक ही कहते हैं।दूसरे और तीसरे तो स्वतंत्र उपनिषद ही हैं।दूसरे के उत्तरार्द्ध के शेष चार परिच्छेद वेदांत ग्रंथ के रूप में गिने जाते हैं,इसलिए उनका नाम ऐतरेय उपनिषद है। कौषीतकी आरण्यक के तीन खंड हैं।इनमें से दो खंड कर्म-कांड से परिपूर्ण हैं।तीसरा खंड कौषीतकी उपनिषद कहलता है।

ऋग्वेदीय उपनिषदों में ऐतरेय, कौषीतकी,वाष्कल और मैत्रायणी हैं । 

टिप्पणियाँ

  1. बहुत सी जानकी इकट्ठे मिल गई। आशा है यह श्रूंखला आगे बढेगी।

    उत्तर देंहटाएं
  2. हमारे ज्ञान चक्षु भी खुलने लगे हैं.. कई नूतन ज्ञान की प्राप्ति हो रही है.. जारी रखिये!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. aaj ek arase ke baad laptop ko hath lagaya hai ...pahile se kuch sudhar hai.swasthy me ...........apana poora dhyan rakh rahee hoo.ek betee aa gaee doosaree bhee aane walee hai......isee se poora dhyaan rakh rahee hoo....grandchildren ke sath best time jo chahtee hoo.............
    aapse nivedan hai doosare vedo par bhee sankshipt me jaankaree deejiyega.
    Apne baboojee se shayad. sunaa tha ki ek ved bimaree aur jadee bootiyo kee jankaree bhee deta hai.......
    kya ye sach hai .
    abhee ek do mahine laptop se chutkara lena gardan ke liye jarooree hai....
    chinta kee koi baat nahee.
    aap sabhee aatmeeyo ke swasthy kee mangal kamna karte hue lambee chutee le rahee hoo...

    उत्तर देंहटाएं
  4. Bahut hi sarthak kadam uthhaya hai apne.
    Ummiee hai kuchh gehre paani me bhi utaarenge aap.

    --Mayank

    उत्तर देंहटाएं
  5. Bahut hi sarthak kadam uthhaya hai apne.
    Ummieed hai kuchh gehre paani me bhi utaarenge aap.

    --Mayank

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

चमार राष्ट्रपति

लिंकन अमेरिका का राष्ट्रपति हुआ । उसका बाप एक गरीब चमार था । कौन सोचता था कि चमार के घर एक लड़का पैदा होगा, जो मुल्क में आगे खड़ा हो जाएगा ? अनेक-अनेक लोगों के मन को चोट पहुँची । एक चमार का लड़का राष्ट्रपति बन जाए । दूसरे जो धनी थे और सौभाग्यशाली घरों में पैदा हुए थे, वे पिछड़ रहे थे । जिस दिन सीनेट में पहला दिन लिंकन बोलने खड़ा हुआ, तो किसी एक प्रतिस्पर्धी ने, किसी महत्वाकांक्षी ने, जिसका क्रोध प्रबल रहा होगा, जो सह नहीं सका होगा, वह खड़ा हो गया । उसने कहा, "सुनों लिंकन, यह मत भूल जाना कि तुम राष्ट्रपति हो गए तो तुम एक चमार के लड़के नहीं हो । नशे में मत आ जाना । तुम्हारा बाप एक चमार था, यह खयाल रखना ।" सारे लोग हँसे, लोगों ने खिल्ली उड़ाई, लोगों को आनंद आया कि चमार का लड़का राष्ट्रपति हो गया था । चमार का लड़का कह कर उन्होंने उसकी प्रतिभा छीन ली ।फिर नीचे खड़ा कर दिया । लेकिन लिंकन की आँखें  खुशी के आँशुओं से भर गई । उसने हाथ जोड़ कर कहा कि मेरे स्वर्गीय पिता की तुमने स्मृति दिला दी, यह बहुत अच्छा किया । इस क्षण में मुझे खुद उनकी याद आनी चाहिए थी । लेकिन मैं तुमसे कहूँ, मैं…

राष्ट्रभाषा, राजभाषा या संपर्कभाषा हिंदी

आज हिंदी को बहुत से लोग राष्ट्रभाषा के रूप में देखते हैं । कुछ इसे राजभाषा के रूप में प्रतिष्ठित देखना चाहते हैं । जबकि कुछ का मानना है कि हिंदी संपर्क भाषा के रूप में विकसित हो रही है । आइए हम हिंदी के इन विभिन्न रूपों को विधिवत समझ लें, ताकि हमारे मन-मस्तिष्क में स्पष्टता आ जाए ।
राष्ट्रभाषा से अभिप्राय: है किसी राष्ट्र की सर्वमान्य भाषा । क्या हिंदी भारत की राष्ट्रभाषा है ? यद्यपि हिंदी का व्यवहार संपूर्ण भारतवर्ष में होता है,लेकिन हिंदी भाषा को भारतीय संविधान में राष्ट्रभाषा नहीं कहा गया है । चूँकि भारतवर्ष सांस्कृतिक, भौगोलिक और भाषाई दृष्टि से विविधताओं का देश है । इस राष्ट्र में किसी एक भाषा का बहुमत से सर्वमान्य होना निश्चित नहीं है । इसलिए भारतीय संविधान में देश की चुनिंदा भाषाओं को संविधान की आठवीं अनुसूची में रखा है । शुरु में इनकी संख्या 16 थी , जो आज बढ़ कर 22 हो गई हैं । ये सब भाषाएँ भारत की अधिकृत भाषाएँ हैं, जिनमें भारत देश की सरकारों का काम होता है । भारतीय मुद्रा नोट पर 16 भाषाओं में नोट का मूल्य अंकित रहता है और भारत सरकार इन सभी भाषाओं के विकास के लिए संविधान अनुसा…

मेरी सेवानिवृत्ति

एक दिन मैं भी
ऐसे ही सेवानिवृत्त हो
कर
जाउंगा कार्यालय से

लोग अनमने मन से
मुझे भी कुछ हार पहनाएंगे
थोड़े मेरी प्रशंसा में
वे शब्द कहेंगे
जिनमें न रस होगा
न ताज़गी
और फिर खाने-पीने
का दौर शुरु हो जाएगा

तब मैं घर लौट आऊंगा
और लोग धीरे-धीरे
मुझे भूल जाएंगें
कार्यालय वैसे ही चलता
रहेगा
जैसे आज चलता है
बस मैं न रहूंगा
न मेरे हस्ताक्षर होंगे
0
0
0
होगा एक विराट शून्य
जिसमें धीरे-धीरे
सब समा जाएगा
और अस्तित्व अपनी
एक महायात्रा पूरी
कर चुका होगा