सोमवार, 16 अगस्त 2010

विद्वान,पंडित और पुरोहित

विद्वान : विद्वान वह है जो द्वैत के भेद का ज्ञान रखता है । जो चीजों को टूकड़ों में तोड़-तोड़ कर समझता है और समझाता है । वह द्वैत का विज्ञानी होता है। बिरले ही विद्वान होते हैं जो अद्वैत का अनुभव रखते हैं । 

पंडित : पंडित शास्त्र का जानकार होता है लेकिन स्वयं का अनुभव रखे यह जरूरी नहीं । उसका ज्ञान उधार का ज्ञान होता है । 

पुरोहित : पुरोहित शास्त्र सम्मत विधि द्वारा  और  पूर्वजों के दिखाए मार्ग पर चलते हुए नागरिकों के हित के लिए यज्ञ आदि अनुष्ठान संपन्न करता है । पुरोहित को परम्परा निर्वाह में ही ज्ञान दिखाई पड़ता है । 

5 टिप्‍पणियां:

  1. तीनो की व्याख्या बेहतरिन लगी .अति सुन्दर .स्वतन्त्रता दिवस की ढेरो बधाईयां आपको .

    उत्तर देंहटाएं
  2. तीनों की खोज एक हो भी,तो रास्ते शायद कहीं न ले जायें!

    ये उपर जाने कि लिये अपनी अपनी तरह की सीढीयां बनाने मे लगें हैं..जबकि वहां जाने के लिये पखं फैलने हैं..उडना है आकाश की असुरक्षा में!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. आज दावा तो हर कोई करता है कि वो पंडित, विद्वान अथवा पुरोहित है, लेकिन असल में सब शून्य हैं... खोखला हैं अंदर से..

    उत्तर देंहटाएं