शनिवार, 11 सितंबर 2010

अहंकार

अहंकार मनुष्य की नकारात्मक शक्ति है । जिसका बीज हर मनुष्य में होता है । आयु बढ़ने के साथ-साथ यह बीज अंकुरित,पल्लवित होता हुआ विकसित होता है । पर जब अहंकार अपने शिखर पर होता है, तो मनुष्य अपने जीवन के निम्नतम स्तर पर होता है । 

5 टिप्‍पणियां:

  1. ऐसे पल मैंने अपने जीवन में महसूस किए हैं. चेताने के लिए धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  2. एकदम सही बात,
    माया का खेल बिना अहंकार के शुरु ही नहीं हो सकता.

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. एकदम खरा सोना जईसा बात कहे हैं आप मनोज जी... अहंकार जब आदमी का सवारी करने लगता है त उसको पतन के यात्रा पर जाता है... अऊर ई बात तो सच है कि पतन का मार्ग हमेसा गर्त्त में जाकर खतम होता है..

    उत्तर देंहटाएं