शुक्रवार, 25 सितंबर 2009

धर्म

अपने अंतस को जान लेना और उसके अनुसार जीना धर्म है ।

धर्म आंतरिक अनुशासन-बद्धता का दूसरा नाम है । आंतरिक अनुशासन-बद्धता आ जाने से बाह्य अनुशासन स्वत: ही आ जाता है । धर्म ऋत है; जिसके कारण प्रकृति में संतुलन और लयबद्धता है ।

धर्म विश्वास नहीं है । धर्म एक साक्षात अनुभव है । जो हर ह्रदय में धारणीय है । जिससे ह्रदय के तार झंकृत हो उठते हैं और आत्मा नृत्य करने लगती है । यह नृत्य लय और ताल से आबद्ध है ।

धर्म अनेक नहीं हैं । धर्म अद्वैत की स्थिति है । जहां द्वंद्व नहीं, द्वैत नहीं, वहां धर्म है । प्रकृति भी धर्ममय है । प्रकृति का अपना आंतरिक अनुशासन है, जिसके कारण उसमें अद्भूत सौंदर्य है । वस्तुत: जहां अन्तस का प्रकाश है - वहां सौंदर्य है ।

धर्म का कोई संप्रदाय नहीं है । जहां संप्रदाय है, वहां धर्म नहीं है । धर्म एकांतिक अनुभव है ; जिसमें संपूर्ण ब्रह्मांड को जोड़ने की शक्ति है ।

धर्म मंदिर, मस्ज़िद, गुरुद्वारा में नहीं, वह तो सर्वत्र है । अपने ह्रदय को रिक्त करो और वह धर्म-कणों से आपूरित हो जाएगा ।

2 टिप्‍पणियां:

  1. "धर्म विश्वास नहीं है । धर्म एक साक्षात अनुभव है । जो हर ह्रदय में धारणीय है । जिससे ह्रदय के तार झंकृत हो उठते हैं और आत्मा नृत्य करने लगती है । यह नृत्य लय और ताल से आबद्ध है ।"

    मैं आपसे पूर्णतः सहमत हूँ. धर्म की बढ़िया जानकारी मिली आपके ब्लाग पर.
    आपका हार्दिक आभार.

    चन्द्र मोहन गुप्त
    जयपुर
    www.cmgupta.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. मनोज जी , "rhidya' - rhuday स्पर्शी ( jo rhiday में द्य -विद्यमान हो ).
    लेकिन इस शब्दको जिस तरह से मै type करना चाह रही थी , वो हुआ नही . अभी भी मैंने rhiday स्पर्शी लिखा , र्हिद्य बदल के ...आभारी हूँ ,कि , आपने सुधारने की तकलीफ उठाई ...लेकिन 'rhiday' ये शब्द , मैंने कई तरीकों से type कर आज़माया ...मुझे जिस तरह चाहिए , उस तरह से वो नही अवतरित हुआ .

    उत्तर देंहटाएं