सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मनुष्य का जीवन

कहते हैं भगवान ने जब सृष्टि की रचना की और पृथ्वी पर जीवन की परिकल्पना की, तो सभी प्राणियों को ४० वर्ष की उम्र दी । मनुष्य को छोड़कर अन्य सभी प्राणी भगवान को अनुगृहीत भाव से धन्यवाद देकर पृथ्वी पर उतरने लगे । लेकिन असंतुष्ट मनुष्य की जब पृथ्वी पर जाने की बारी आई, तो उसने भगवान से प्रार्थना की कि २० साल की उम्र में तो शादी करुंगा और ४० साल की उम्र तक तो बच्चे भी बड़े नहीं होंगे और मेरे मरने की घड़ी आ जाएगी । इसलिए प्रभु से अनुरोध है कि मेरी उम्र बढ़ा दी जाए । भगवान ने मनुष्य के अनुरोध को स्वीकार करते हुए कहा कि, तुम अभी रुको, जिसे उम्र कम चाहिए होगी, उसकी उम्र मैं तुम्हें दे दूँगा ।
जब गधे की बारी आई, तो उसने भगवान से कहा कि मैं पृथ्वी पर ४० साल तक क्या करुँगा । उन्होंने कहा, बोझ उठाना और मनुष्य की सेवा करना । गधे ने प्रार्थना की कि मेरी उम्र २० साल कम कर दें, इतनी लंबी आयु का बोझ मैं कैसे उठाऊँगा । भगवान ने उसकी उम्र २० वर्ष कम करके शेष २० वर्ष की आयु मनुष्य को दे दी । मनुष्य ६० वर्ष की आयु से भी संतुष्ट न हुआ । आगे बारी आई कुत्ते की । उसने भी पूछा, मैं पृथ्वी पर ४० वर्ष तक क्या करुँगा । भगवान ने जवाब दिया, मनुष्य की रक्षा करना । कुत्ते ने भी अपनी उम्र कम करने का भगवान से आग्रह किया । भगवान ने प्रार्थना स्वीकार की ओर कुत्ते की आयु २० वर्ष निर्धारित कर दी, तथा शेष २० वर्ष की आयु असंतुष्ट मनुष्य को दे दी । अगले क्रम पर उल्लू ने भी भगवान से पूछा, मैं ४० वर्ष तक पृथ्वी पर क्या करुँगा, प्रभु । भगवान ने कहा, तुम रातभर जाग कर पेड़ पर उल्टा लटकना । उसने भी इस कर्म को४० वर्षों तक झेलना उचित न समझा और अपनी आयु कम करने का अनुरोध किया । और मनुष्य ८० वर्ष की उम्र पाने पर भी संतुष्ट न था । उल्लू की प्रार्थना भी स्वीकार कर ली गई । भगवान ने उसकी उम्र २० वर्ष कम कर दी और उसकी शेष आयु मनुष्य को भेंट कर दी । इस प्रकार मनुष्य की आयु १०० साल हो गई । भगवान को धन्यवाद देकर मनुष्य धरती पर चला आया ।

२० वर्ष की वय में उसने शादी रचाई । २० से ४० वर्ष तक उसने बच्चों को पढ़ाया और जीवन को किसी हद तक सुखी-सुखी जीने का साहस दिखाया । अब ४० से ६० साल की उम्र तक उसने बेटी की शादी की,बेटे को नौकरी लगवाया, घर बनवाया, धन इकट्ठा किया अर्थात् गधे की तरह कार्य में जुटा रहा । ६० साल की उम्र में स्वयं की नौकरी से रिटायर हो गया । ६० से ८० साल के बीच उसके बेटे बड़े होकर जिम्मेदारियाँ संभालने लगे । अब वह पूरे दिन बेटे-बहू के काम में भौंक-भौंक कर दखलंदाजी करने लगा तो बेटे ने बहु से कहा कि अब यह बूढ़ा हो गया है । इसलिए कुत्ते की तरह भौंकता है । औरअब उसके पास घर के बाहर कुत्तों की तरह बैठ कर पहरेदारी करने सिवा कोई चारा न रहा । अब ८० साल कुत्ते की तरह भौंकते और पहरेदारी में बीत गए । शेष बचे ८० से १०० साल । उसमें उसकी आंखें कमजोर हो गई , लेकिन कान बहुत तेज हो गए । उसे रात भर उल्लू की तरह नींद नहीं आती और वह यह पूछता रहता है, क्या हुआ ? इस तरह मनुष्य अपनी जिंदगी जीता है ।

क्या यह कहानी मात्र कल्पित-कपोल है या वास्तव में ही मनुष्य की लोभ वृत्ति और उसके जीवन के प्रति मोह की द्योतक नहीं ? क्या मनुष्य अपने स्वभाविक जीवन से हटकर अन्य प्राणियों के जीवन की कामना नहीं रखता ? यदि नहीं, तो इस जीवन को सफल बनाने के लिए इसके मर्म को पहचाने और सार्थक जीवन जिएं ।

टिप्पणियाँ

  1. सादर प्रणाम,
    यद्यपि यह कहानी सुनी हुई है फिर भी भली लगी, मनुष्य के जीवन के विभिन्न स्थितियों को अन्य जीवों से ली गयी उधार की ज़िन्दगी बताना...कभी व्यंग लगता है कभी मार्मिक.....लेकिन सत्य यही है कि हर जीवन को ऐसी परिस्थियों से दो-चार होना ही पड़ता हैं...
    अच्छी प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  2. यह कहानी पुनर्प्रस्तुति मात्र है- मेरे शब्दों में, इसमें दो राय नहीं । कुछ कहानियाँ जो मुझे अच्छी लगती हैं, उन्हें सहेजने का काम मैं यहाँ कर रहा हूँ । यद्यपि इस कहानी के प्रस्तुतिकरण से मैं पूरी तरह संतुष्ट नहीं हूँ । इसे और संवारा-सजाया जा सकता था ।

    आपकी टिप्पणी के लिए धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  3. kash mnushy ke paas santosh dhan aa jae uddhar to louloop khatm ho tabhee to hoga..........
    acchee lagee kahanee.......

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

चमार राष्ट्रपति

लिंकन अमेरिका का राष्ट्रपति हुआ । उसका बाप एक गरीब चमार था । कौन सोचता था कि चमार के घर एक लड़का पैदा होगा, जो मुल्क में आगे खड़ा हो जाएगा ? अनेक-अनेक लोगों के मन को चोट पहुँची । एक चमार का लड़का राष्ट्रपति बन जाए । दूसरे जो धनी थे और सौभाग्यशाली घरों में पैदा हुए थे, वे पिछड़ रहे थे । जिस दिन सीनेट में पहला दिन लिंकन बोलने खड़ा हुआ, तो किसी एक प्रतिस्पर्धी ने, किसी महत्वाकांक्षी ने, जिसका क्रोध प्रबल रहा होगा, जो सह नहीं सका होगा, वह खड़ा हो गया । उसने कहा, "सुनों लिंकन, यह मत भूल जाना कि तुम राष्ट्रपति हो गए तो तुम एक चमार के लड़के नहीं हो । नशे में मत आ जाना । तुम्हारा बाप एक चमार था, यह खयाल रखना ।" सारे लोग हँसे, लोगों ने खिल्ली उड़ाई, लोगों को आनंद आया कि चमार का लड़का राष्ट्रपति हो गया था । चमार का लड़का कह कर उन्होंने उसकी प्रतिभा छीन ली ।फिर नीचे खड़ा कर दिया । लेकिन लिंकन की आँखें  खुशी के आँशुओं से भर गई । उसने हाथ जोड़ कर कहा कि मेरे स्वर्गीय पिता की तुमने स्मृति दिला दी, यह बहुत अच्छा किया । इस क्षण में मुझे खुद उनकी याद आनी चाहिए थी । लेकिन मैं तुमसे कहूँ, मैं…

राष्ट्रभाषा, राजभाषा या संपर्कभाषा हिंदी

आज हिंदी को बहुत से लोग राष्ट्रभाषा के रूप में देखते हैं । कुछ इसे राजभाषा के रूप में प्रतिष्ठित देखना चाहते हैं । जबकि कुछ का मानना है कि हिंदी संपर्क भाषा के रूप में विकसित हो रही है । आइए हम हिंदी के इन विभिन्न रूपों को विधिवत समझ लें, ताकि हमारे मन-मस्तिष्क में स्पष्टता आ जाए ।
राष्ट्रभाषा से अभिप्राय: है किसी राष्ट्र की सर्वमान्य भाषा । क्या हिंदी भारत की राष्ट्रभाषा है ? यद्यपि हिंदी का व्यवहार संपूर्ण भारतवर्ष में होता है,लेकिन हिंदी भाषा को भारतीय संविधान में राष्ट्रभाषा नहीं कहा गया है । चूँकि भारतवर्ष सांस्कृतिक, भौगोलिक और भाषाई दृष्टि से विविधताओं का देश है । इस राष्ट्र में किसी एक भाषा का बहुमत से सर्वमान्य होना निश्चित नहीं है । इसलिए भारतीय संविधान में देश की चुनिंदा भाषाओं को संविधान की आठवीं अनुसूची में रखा है । शुरु में इनकी संख्या 16 थी , जो आज बढ़ कर 22 हो गई हैं । ये सब भाषाएँ भारत की अधिकृत भाषाएँ हैं, जिनमें भारत देश की सरकारों का काम होता है । भारतीय मुद्रा नोट पर 16 भाषाओं में नोट का मूल्य अंकित रहता है और भारत सरकार इन सभी भाषाओं के विकास के लिए संविधान अनुसा…

मेरी सेवानिवृत्ति

एक दिन मैं भी
ऐसे ही सेवानिवृत्त हो
कर
जाउंगा कार्यालय से

लोग अनमने मन से
मुझे भी कुछ हार पहनाएंगे
थोड़े मेरी प्रशंसा में
वे शब्द कहेंगे
जिनमें न रस होगा
न ताज़गी
और फिर खाने-पीने
का दौर शुरु हो जाएगा

तब मैं घर लौट आऊंगा
और लोग धीरे-धीरे
मुझे भूल जाएंगें
कार्यालय वैसे ही चलता
रहेगा
जैसे आज चलता है
बस मैं न रहूंगा
न मेरे हस्ताक्षर होंगे
0
0
0
होगा एक विराट शून्य
जिसमें धीरे-धीरे
सब समा जाएगा
और अस्तित्व अपनी
एक महायात्रा पूरी
कर चुका होगा