सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मौलिकता

समाधि की अवस्था में मानवीय चेतना से उपजा हर विचार मौलिक है ।
प्रेम
-युक्त आलिंगन की मौन स्थिति मौलिक है।
प्रत्येक व्यक्ति स्वयं में मौलिक है
प्रत्येक क्षण मौलिक है
इच्छा रहित शांत चित्त मौलिक है
विचार रहित वर्तमान मौलिक है
फूल का खिलना मौलिक है
फूल का मुरझा कर गिरना मौलिक है
किसी पत्थर का तुम्हारे द्वारा उठाया जाना मौलिक घटना है
पत्थर स्वयं भी मौलिक है
अनुकरण रहित आचरण मौलिक है
ह्रदय का रुदन मौलिक है
किसी की बात को ठीक-ठीक उसी अर्थ में समझ लेना,जान लेना जैसा कि वक्ता के मन में है, एक मौलिक घटना है
स्वयं की अनुभूति मौलिक है
स्वयं की आह ! मौलिक है
आश्चर्य मौलिक है
जीवन मौलिक है ; मृत्यु मौलिक है
स्वयं का आविष्कार, खोज मौलिक है
स्वयं की भटकन जानना मौलिक है
पत्तों की खनखनाहट, वृक्षों की सांय-सांय, पक्षियों की चहचाहट, तारों की टिमटिमाहट, शशि का सौंदर्य, कामिनी की चंचलता मौलिक है
सद्-वचनों की अभिव्यक्ति जो स्वानुभव से निकली हो और जो चेतना को विराट रूप प्रदान करे- वह मौलिक है

नृत्य मौलिक है ;संगीत मौलिक है ; काव्य मौलिक है ; यदि इन की उद्भावना ह्रदय की जमीन पर और आत्मा की लयबद्धता तथा अंत:करण की अनुशासनबद्धता से हुई है
वह सब मौलिक है जिसे ईमानदारी से आप अपना कह सको

टिप्पणियाँ

  1. अनुकरण रहित आचरण मौलिक है ।
    किसी की बात को ठीक-ठीक उसी अर्थ में समझ लेना,जान लेना जैसा कि वक्ता के मन में है, एक मौलिक घटना है ।
    स्वयं की अनुभूति मौलिक है ।
    स्वयं का आविष्कार, खोज मौलिक है ।
    स्वयं की भटकन जानना मौलिक है ।
    वह सब मौलिक है जिसे ईमानदारी से आप अपना कह सको ।

    aap ki ukt sabhi mauliktayeN achchhi lagiN.

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राष्ट्रभाषा, राजभाषा या संपर्कभाषा हिंदी

आज हिंदी को बहुत से लोग राष्ट्रभाषा के रूप में देखते हैं । कुछ इसे राजभाषा के रूप में प्रतिष्ठित देखना चाहते हैं । जबकि कुछ का मानना है कि हिंदी संपर्क भाषा के रूप में विकसित हो रही है । आइए हम हिंदी के इन विभिन्न रूपों को विधिवत समझ लें, ताकि हमारे मन-मस्तिष्क में स्पष्टता आ जाए ।
राष्ट्रभाषा से अभिप्राय: है किसी राष्ट्र की सर्वमान्य भाषा । क्या हिंदी भारत की राष्ट्रभाषा है ? यद्यपि हिंदी का व्यवहार संपूर्ण भारतवर्ष में होता है,लेकिन हिंदी भाषा को भारतीय संविधान में राष्ट्रभाषा नहीं कहा गया है । चूँकि भारतवर्ष सांस्कृतिक, भौगोलिक और भाषाई दृष्टि से विविधताओं का देश है । इस राष्ट्र में किसी एक भाषा का बहुमत से सर्वमान्य होना निश्चित नहीं है । इसलिए भारतीय संविधान में देश की चुनिंदा भाषाओं को संविधान की आठवीं अनुसूची में रखा है । शुरु में इनकी संख्या 16 थी , जो आज बढ़ कर 22 हो गई हैं । ये सब भाषाएँ भारत की अधिकृत भाषाएँ हैं, जिनमें भारत देश की सरकारों का काम होता है । भारतीय मुद्रा नोट पर 16 भाषाओं में नोट का मूल्य अंकित रहता है और भारत सरकार इन सभी भाषाओं के विकास के लिए संविधान अनुसा…

चमार राष्ट्रपति

लिंकन अमेरिका का राष्ट्रपति हुआ । उसका बाप एक गरीब चमार था । कौन सोचता था कि चमार के घर एक लड़का पैदा होगा, जो मुल्क में आगे खड़ा हो जाएगा ? अनेक-अनेक लोगों के मन को चोट पहुँची । एक चमार का लड़का राष्ट्रपति बन जाए । दूसरे जो धनी थे और सौभाग्यशाली घरों में पैदा हुए थे, वे पिछड़ रहे थे । जिस दिन सीनेट में पहला दिन लिंकन बोलने खड़ा हुआ, तो किसी एक प्रतिस्पर्धी ने, किसी महत्वाकांक्षी ने, जिसका क्रोध प्रबल रहा होगा, जो सह नहीं सका होगा, वह खड़ा हो गया । उसने कहा, "सुनों लिंकन, यह मत भूल जाना कि तुम राष्ट्रपति हो गए तो तुम एक चमार के लड़के नहीं हो । नशे में मत आ जाना । तुम्हारा बाप एक चमार था, यह खयाल रखना ।" सारे लोग हँसे, लोगों ने खिल्ली उड़ाई, लोगों को आनंद आया कि चमार का लड़का राष्ट्रपति हो गया था । चमार का लड़का कह कर उन्होंने उसकी प्रतिभा छीन ली ।फिर नीचे खड़ा कर दिया । लेकिन लिंकन की आँखें  खुशी के आँशुओं से भर गई । उसने हाथ जोड़ कर कहा कि मेरे स्वर्गीय पिता की तुमने स्मृति दिला दी, यह बहुत अच्छा किया । इस क्षण में मुझे खुद उनकी याद आनी चाहिए थी । लेकिन मैं तुमसे कहूँ, मैं…

पुस्तक समीक्षा : 'खजाना' कहानी संग्रह

मनोज कुमार पांडेय की सद्यःप्रकाशित पुस्तक ‘ख़जाना’ पढ़ी। यह कहानीसंग्रह है जिसमें कुल आठ कहानियां संकलित है,जो इस रूप में प्रकाशित होने से पूर्व तद्भव,पक्षधर,रचना समय,अभिनवकदम,कादंबिनी और पल-प्रतिपल पत्रिकाओं में छप चुकी हैं। संग्रह की तीन लंबीकहानियां हैं। ये हैं-चोरी,घंटा,मोह। मोह सबसे लंबी कहानी है। अन्य अपेक्षाकृत छोटी कहानियां हैं। 'चोरी','टीस','मदीना','खजाना','कष्ट' आत्मकथात्मक शैली में लिखी गई हैं।कहानियोंकी बुनावट परम्परागत कहानी लेखन से हटकर है। लेखनमें चित्रांकन है। चित्र बनता जरूर है,पर उस चित्र कीव्याख्या सहजनहींहै। चित्रोंमें उतनी ही जटिलताहै जितनीकिआधुनिक माडर्न आर्ट में। यहसूक्ष्मअभिव्यंजना जरूर है, पर सामान्य जन-जीवन से इतर नहीं है। समय, समाज, व्यवस्था औरमान्यताएं उनकी इन कहानियों में अपनी संपूर्ण विद्रूपताओंऔर विडम्बनाओं के साथ आरेखित हुई हैं। समाज कीजोसंवेदनाएं