शुक्रवार, 2 अक्तूबर 2009

विश्वासघात

घात कोई भी हो, पीड़ा तो देता ही है पर सबसे बड़ा घात है विश्वास में घात विश्वासघात की पीड़ा को वही जान सकता है, जिसने इसे भोगा हो

विश्वास सब संबंधों की नींव है जितना बड़ा संबंध होता है वहां उतना ही ज्यादा विश्वास होता है कहा जाता है जितना ज्यादा विश्वास होता है ; उतना ही ज्यादा उन संबंधों में प्रेम होता है और जब प्रेम किसी से होता है तो विश्वास स्वमेव जाता है विश्वास प्रेम की छाया है जहां प्रेम नहीं वहां विश्वास भी नहीं होता आधुनिक खोजें कहती हैं कि विश्वास कम या ज्यादा नहीं होता वह या तो होता है या नहीं होता और विश्वास की धारणा बच्चे में बचपन से उसके परिवार से ही सबसे ज्यादा बनती है ; यदि बच्चा अपने परिवार के लोगों से विश्वास नहीं अर्जित कर पाता; तो वह जीवन में कभी किसी पर विश्वास नहीं कर पाएगा

संसार विविधताओं और अनेक ध्रुवों से युक्त है इसमें छल, कपट, धोखे और अनेक आघात-प्रतिघात हैं आदमी अपने स्वार्थपूर्ति के लिए अनेकों बार विश्वासघात करता है लेकिन वह नहीं जानता कि जब किसी का विश्वास टूटता है, तो उसके अंतस अथवा आत्मा को कितना आघात पहुँचता है धोखा खाया हुआ आदमी बहुत बार मनुष्यता से विश्वास खो बैठता है

उधर सत्य का दूसरा पक्ष भी है संसार में केवल छली,कपटी और धोखेबाज लोग ही नहीं हैं, बल्कि सच्चे, सच्चरित्र, स्नेही और दूसरों की पीड़ा, कष्ट को समझने वाले लोग भी हैं और अक्सर देखा गया है कि इन अच्छे लोगों से परमात्मा बड़ी चुनौतीपूर्ण परिक्षाएँ लेता है इन्हें हम संबंधों में बहुत बार देख सकते हैं संबंधों में अक्सर अच्छे लोग बुरे लोगों के समक्ष खड़े होते हैं इन संबंधों में जहां अच्छे आदमी की अच्छाई की परीक्षा होती है, वहीं बुरे आदमी को सुधरने का अवसर भी मिलता है

शायद इसी लिए कहा गया है कि जीवन परीक्षाओं का नाम है ; अच्छा मनुष्य परीक्षा और चुनौतियों में खरा उतरता है

1 टिप्पणी:

  1. शायद इसी लिए कहा गया है कि जीवन परीक्षाओं का नाम है ; अच्छा मनुष्य परीक्षा और चुनौतियों में खरा उतरता है ।

    उचित ही कहा है, बशर्ते मानदंड क्या तय किये गए हैं इस पर भी विचार होना चाहिए..

    चन्द्र मोहन गुप्त
    जयपुर
    www.cmgupta.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं