शनिवार, 17 अक्तूबर 2009

दिवाली के दिन



दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ
यह दीपावली आप सब के जीवन में लाए
खुशियाँ अपार
धन-सुख समृद्धि बढ़े अपार
रहे जीवन आपका जगमगाता
हर दम हर पल
.................................................................................................


अक्सर दिवाली या तो मंगलवार को आती है या शुक्रवार को । इसी संदर्भ में हमारे लोक-जीवन में मान्यता रही है कि :-

मंगल को आए दिवाली
तो हँसे किसान
रोये व्यापारी 

और
शुक्र को आए दिवाली
तो हँसे व्यापारी और
रोये काश्तकारी

लेकिन इस बार तो दिवाली न मंगलवार की है, न शुक्रवार की ।
क्या इस रहस्य को आप खोलेंगे कि आज दिवाली शनिवार को क्यों हैं ?

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें