बुधवार, 26 अगस्त 2009

मां-बेटी

हर मां
एक बेटी
फिर भी
वह
बेटा चाहती
शायद
वह
जानती है
बेटी होने का
दुख !

2 टिप्‍पणियां:

  1. बेटा चाहे की न चाहे....बेटी होने का दर्द जानती है......

    उत्तर देंहटाएं
  2. अदा जी ,
    सादर प्रणाम !

    प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद । और गूंज-अनुगूंज के followers में पहली दस्तख़ देने के लिए ह्रदय से आभारी हूँ, कि मुझे इस योग्य समझा और आपसे खाता खुल रहा है । सौभाग्य मेरे !

    उत्तर देंहटाएं