सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

ज्ञान-गंगा : 9 / ज्ञान, ज्ञाता , ज्ञेय और अहंकार


साधारणत: जिसे ज्ञान कहते हैं, वह ज्ञान द्वैत के ऊपर नहीं ले जाता । वहां द्वैत हमेशा बना रहता है । जहां दो का भाव हो, वहीं यह संभव होता है कि ज्ञेय और ज्ञाता अलग-अलग बने रहते हैं । इसी लिए यह ज्ञान एक बाह्य संबंध है । यह अंदर प्रवेश नहीं कर पाता । ज्ञाता ज्ञेय के कितने ही निकट पहुँच जाए, फिर भी दूर ही बना रहता है । इस तथाकथित ज्ञान के लिए दूरी अनिवार्य और अपरिहार्य है । इसलिए ऐसा ज्ञान मात्र किसी विषय का परिचय ही दे पाता है, वस्तुत: ज्ञान नहीं बन पाता । मनुष्य के लिए बड़ी से बड़ी पहेलियों में से एक यही है कि ज्ञान बिना दूरी के संभव नहीं । लेकिन जहां दूरी है,वहां सच्चा ज्ञान असम्भव है ।

क्या यह संभव है कि दूरी न हो और ज्ञान संभव हो जाए ? यदि यह संभव नहीं है, तो सत्य कभी भी नहीं जाना जा सकता । और साधारणत: यह संभव नहीं दिखता, क्योंकि जो भी हम जानते हैं, वह जानने के कारण ही हमसे पृथक और अन्य हो जाता है । ज्ञान ज्ञाता और ज्ञेय को तोड़ देता है । वह जोड़ने वाला सेतु नहीं, वरन् पृथक करने वाली खाई है । और यही कारण है कि जिन्हें हम ज्ञानी कहते हैं, वे अति अहंकार युक्त हो जाते हैं । जैसे-जैसे उनका ज्ञान बढ़ता है, वैसे-वैसे वे विश्वसत्ता से टूटते जाते हैं । इस भांति यदि कोई सर्वज्ञ हो जाए तो वह अपने अहम बिंदु पर समग्र रूपेण केंद्रित हो जाएगा । और जहां जितना अहंकार है, उतना ही अंधकार है । ज्ञानी होने का बोध अहंकार की सूचना है । और सर्वज्ञ होने की धारणा परम अज्ञान की स्थिति है । सुकरात को परम ज्ञानी कहा गया है । क्योंकि उसने कहा है कि मैं इतना ही जानता हूँ कि मैं कुछ भी नहीं जानता । उपनिषद् भी घोषणा करते हैं, कि अज्ञान तो अंधकार में ले ही जाता है, लेकिन ज्ञान महा अंधकार में ले जाता है । ईशोपनिषद् का इस संबंध में स्पष्ट कथन है : जो जन अविद्या में निरंतर मग्न हैं, वे डूब जाते हैं तमस में । जो मनुज विद्या में सदा रमें हैं, वे और भी अधिक तमस में धंस जाते हैं और जो मनुष्य निरोध उपासना करते हैं, वे डूब जाते हैं घने तमस-अंध में तथा जो जन सदैव विकास में लगे हैं वे और अधिकाधिक तमस-अंध में धंस जाते हैं ।

अहंकार ही अज्ञान है । इसलिए जिस ज्ञान से अहंकार पोषित होता हो, वह प्रच्छन रूप में अज्ञान ही है । फिर क्या ऐसा भी कोई ज्ञान संभव है, जो अज्ञान न हो अर्थात् क्या ऐसा ज्ञान संभव है, जिसमें अहंकार न हो ? दूसरे शब्दों में क्या ज्ञान ज्ञाता और ज्ञेय को जोड़ने वाला सेतु भी हो सकता है ? निश्चय ही ऐसा ज्ञान संभव है और उस ज्ञान का नाम ही प्रेम है । प्रेम ज्ञान का ऐसा मार्ग है, जहां अहंकार को मिटा कर प्रवेश मिलता है । प्रेम का अर्थ है स्वयं के और सर्व के बीच दूरी को मिटाना । यह दूरी उसी मात्रा में विलीन होने लगती है, जिस मात्रा में मैं का भाव नष्ट हो जाता है । रूमी की एक कविता है - जिसमें प्रेमी ने प्रेयसी के द्वार पर दस्तक दी है । भीतर से आवाज आई - कौन है? प्रेमी ने कहा मैं तेरा प्रेमी । लेकिन फिर भीतर से कोई आवाज न आई और न ही दरवाजा खुलता मालूम पड़ा । प्रेमी ने चिल्लाकर पूछा कि क्या कारण है कि द्वार नहीं खुलता । उत्तर आया - प्रेम के द्वार उसके लिए ही खुलते हैं, जिसने उसकी पात्रता अर्जित कर ली हो । यह सुन कर प्रेमी चला गया और वर्षों की तपश्चर्या के बाद पुन: उस द्वार पर आया । फिर पूछा गया कि द्वार पर कौन है ? इस बार उत्तर अलग था । प्रेमी ने कहा - मैं नहीं हूँ, अब तो तू ही तू है । और जो द्वार बंद थे वे खुल गए । प्रेम का द्वार तभी खुलता है, जब अहंकार का आभास गिर जाता है । सत्य पर पर्दा नही है । पर्दा हमारी दृष्टि पर है । और गहरे में देखने पर प्रेम के द्वार बंद नहीं थे, बल्कि अहंकार से आंखें बंद थी । अहंकार गया तो द्वार सदा से ही खुले हैं ।

प्रेम की साधना स्वयं को मिटाने की साधना है । और आश्चर्यों का आश्चर्य तो यही है कि जो स्वयं को मिटाता है, वही स्वयं को पाने में समर्थ होता है ।

टिप्पणियाँ

  1. जो स्वयं को मिटाता है, वही स्वयं को पाने में समर्थ होता है ..
    बहुत सुन्दर..
    आपने बहुत ही सुन्दरता से प्रेम की महत्ता बता दी...
    अहंकारी मनुष्य न प्रतिष्ठा का अधिकारी होता है न ही प्रेम का....
    प्रेम के पथ पर ही चल कर ज्ञान की प्राप्ति होती है...........अतिसुन्दर .
    अगर ऐसे ही आपको पढ़ती रही तो वैराग की मेरी इच्छा पूर्ण हो जायेगी .....या फिर ईश्वर मेरी वर्षों की इच्छा पूर्ण करने के मार्ग पर लिए जा रहा है कौन जाने ?
    पढ़ कर असीम संतुष्टि की प्राप्ति हुई है...

    उत्तर देंहटाएं
  2. जो हो रहा है
    शुभ है
    इस भाव को
    गहराने दें ।
    आप शुभ हैं आप शुभ है आप शुभ हैं ।

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

चमार राष्ट्रपति

लिंकन अमेरिका का राष्ट्रपति हुआ । उसका बाप एक गरीब चमार था । कौन सोचता था कि चमार के घर एक लड़का पैदा होगा, जो मुल्क में आगे खड़ा हो जाएगा ? अनेक-अनेक लोगों के मन को चोट पहुँची । एक चमार का लड़का राष्ट्रपति बन जाए । दूसरे जो धनी थे और सौभाग्यशाली घरों में पैदा हुए थे, वे पिछड़ रहे थे । जिस दिन सीनेट में पहला दिन लिंकन बोलने खड़ा हुआ, तो किसी एक प्रतिस्पर्धी ने, किसी महत्वाकांक्षी ने, जिसका क्रोध प्रबल रहा होगा, जो सह नहीं सका होगा, वह खड़ा हो गया । उसने कहा, "सुनों लिंकन, यह मत भूल जाना कि तुम राष्ट्रपति हो गए तो तुम एक चमार के लड़के नहीं हो । नशे में मत आ जाना । तुम्हारा बाप एक चमार था, यह खयाल रखना ।" सारे लोग हँसे, लोगों ने खिल्ली उड़ाई, लोगों को आनंद आया कि चमार का लड़का राष्ट्रपति हो गया था । चमार का लड़का कह कर उन्होंने उसकी प्रतिभा छीन ली ।फिर नीचे खड़ा कर दिया । लेकिन लिंकन की आँखें  खुशी के आँशुओं से भर गई । उसने हाथ जोड़ कर कहा कि मेरे स्वर्गीय पिता की तुमने स्मृति दिला दी, यह बहुत अच्छा किया । इस क्षण में मुझे खुद उनकी याद आनी चाहिए थी । लेकिन मैं तुमसे कहूँ, मैं…

राष्ट्रभाषा, राजभाषा या संपर्कभाषा हिंदी

आज हिंदी को बहुत से लोग राष्ट्रभाषा के रूप में देखते हैं । कुछ इसे राजभाषा के रूप में प्रतिष्ठित देखना चाहते हैं । जबकि कुछ का मानना है कि हिंदी संपर्क भाषा के रूप में विकसित हो रही है । आइए हम हिंदी के इन विभिन्न रूपों को विधिवत समझ लें, ताकि हमारे मन-मस्तिष्क में स्पष्टता आ जाए ।
राष्ट्रभाषा से अभिप्राय: है किसी राष्ट्र की सर्वमान्य भाषा । क्या हिंदी भारत की राष्ट्रभाषा है ? यद्यपि हिंदी का व्यवहार संपूर्ण भारतवर्ष में होता है,लेकिन हिंदी भाषा को भारतीय संविधान में राष्ट्रभाषा नहीं कहा गया है । चूँकि भारतवर्ष सांस्कृतिक, भौगोलिक और भाषाई दृष्टि से विविधताओं का देश है । इस राष्ट्र में किसी एक भाषा का बहुमत से सर्वमान्य होना निश्चित नहीं है । इसलिए भारतीय संविधान में देश की चुनिंदा भाषाओं को संविधान की आठवीं अनुसूची में रखा है । शुरु में इनकी संख्या 16 थी , जो आज बढ़ कर 22 हो गई हैं । ये सब भाषाएँ भारत की अधिकृत भाषाएँ हैं, जिनमें भारत देश की सरकारों का काम होता है । भारतीय मुद्रा नोट पर 16 भाषाओं में नोट का मूल्य अंकित रहता है और भारत सरकार इन सभी भाषाओं के विकास के लिए संविधान अनुसा…

मेरी सेवानिवृत्ति

एक दिन मैं भी
ऐसे ही सेवानिवृत्त हो
कर
जाउंगा कार्यालय से

लोग अनमने मन से
मुझे भी कुछ हार पहनाएंगे
थोड़े मेरी प्रशंसा में
वे शब्द कहेंगे
जिनमें न रस होगा
न ताज़गी
और फिर खाने-पीने
का दौर शुरु हो जाएगा

तब मैं घर लौट आऊंगा
और लोग धीरे-धीरे
मुझे भूल जाएंगें
कार्यालय वैसे ही चलता
रहेगा
जैसे आज चलता है
बस मैं न रहूंगा
न मेरे हस्ताक्षर होंगे
0
0
0
होगा एक विराट शून्य
जिसमें धीरे-धीरे
सब समा जाएगा
और अस्तित्व अपनी
एक महायात्रा पूरी
कर चुका होगा